चंद्रयान-2 चंद्रमा की कक्षा में सफलतापूर्वक हुआ दाखिल, जानिए कैसा होगा आगे का सफर

Chandrayaan-2 के लॉन्चिंग के 29 दिन पूरे हो चुके हैं और वहीं अब यह चंद्रयान-2 आगे बढ़ते हुए मंगलवार 20 अगस्त को सुबह सफलतापूर्वक चंद्रमा की कक्षा में दाखिल हो गया है। इसके बाद 7 सितंबर को चंद्रयान-2 चंद्रमा पर लैंड करेगा| जानकारी देते हुए बता दें कि, 22 जुलाई को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से चंद्रयान-2 को इसरो के सबसे भारी रॉकेट जीएसएलवी-मार्क 3 (बाहुबली) की मदद से लॉन्च किया गया था|

इसे भी पढ़े: Chandrayaan-2: कल सुबह चंद्रमा की कक्षा में करेगा प्रवेश, 7 सितंबर को चंद्रमा पर होगा लैंड

यान की रफ्तार को किया गया कम 

वैज्ञानिकों ने चंद्रमा के क्षेत्र में प्रवेश करने पर उसके गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव में ले जाने के लिए अंतरिक्ष यान की रफ़्तार को कम कर दिया गया है| इसके आलावा चंद्रयान-2 के ऑनबोर्ड प्रोपल्‍शन सिस्‍टम को भी थोड़ी देर के लिए फायर कर दिया गया| वहीं वैज्ञानिकों ने बताया है कि, एक छोटी सी चूक भी यान को अनियंत्रित कर सकती थी। यह बेहद मुश्किल बाधा थी जिसे चंद्रयान-2 ने सफलतापूर्वक पार कर लिया।

एक बार फिर जारी कर दी जाएगी कक्षा में बदलाव की प्रक्रिया

इसरो के वैज्ञानिकों ने जानकारी देते हुए बताया है कि,  चंद्रमा की कक्षा में प्रवेश करने के बाद चंद्रयान-2 31 अगस्त तक चंद्रमा की कक्षा में परिक्रमा करता रहेगा। इस दौरान एक बार फिर कक्षा में बदलाव की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी | वहीं  इसरो के मुताबिक, यान को चांद की सबसे करीबी कक्षा तक पहुंचाने के लिए कक्षा में चार बदलाव किए जाएंगे। इस तरह तमाम बाधाओं को पार करते हुए यह सात सितंबर को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करेगा जिस हिस्‍से में अभी तक मानव निर्मित कोई यान नहीं उतरा है।

चंद्रयान-2 की अपील हर अपडेट के लिए मुझसे जुड़े रहें   

अभी कुछ दिनों पहले ही चंद्रयान-2 ने धरती पर अपनी अच्छी सेहत और शानदार यात्रा के बारे में संदेश भेजा था। जिसमें कहा गया था  कि, ‘हेलो! मैं चंद्रयान-2 हूं, विशेष अपडेट के साथ। मैं आप सबको बताना चाहूंगा कि अब तक का मेरा सफर शानदार रहा है। मैं कहां हूं और क्या कर रहा हूं, यह जानने के लिए मेरे साथ जुड़े रहें।’  

इसे भी पढ़े: इसरो को मिली एक और सफलता, पृथ्वी की कक्षा से निकल चांद की ओर बढ़ा चंद्रयान-2