भारतीय वायुसेना में आज शामिल होंगे 8 अपाचे, जानिए इनकी खासियत

आज मंगलवार 3 सितंबर को भारतीय वायुसेना (आईएएफ) की लड़ाकू क्षमता बढ़ाने के लिए आठ अमेरिका निर्मित ‘अपाचे एएच-64ई’ लड़ाकू हेलीकॉप्टर वायुसेना में शामिल होंगे| पठानकोट एयर फोर्स स्टेशन में आयोजित होने वाले समारोह में एयर  चीफ मार्शल बी. एस. धनोआ प्रमुख अतिथि रहेंगे| ‘अपाचे एएच-64ई’ दुनिया के सबसे उन्नत बहु-भूमिका वाले लड़ाकू  इसका  का प्रयोग कर लेती है| वहीं बता दें कि, आठ अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर आईएएफ में शामिल किये जाएंगे| इसके बाद ये बल की लड़ाकू क्षमता को बढ़ावा देने में मदद करेंगे|

इसे भी पढ़े: पाकिस्तान अपनी हरकतों से नहीं आ रहा बाज: भारतीय राजनयिकों पर कर रहा है उत्पीड़न

सितम्बर 2015 में आईएएफ ने ‘अपाचे हेलीकॉप्टर’ के लिए अमेरिकी सरकार और बोइंग लिमिटेड के साथ कई अरब डॉलर का अनुबंध कर दिया था| इसके तहत 27 जुलाई को बोइंग ने 22 हेलीकॉप्टर में से पहले चार हेलीकॉप्टर दिए थे|  

इसके बाद वर्ष 2016 में  पाकिस्तान से आए आतंकियो द्वारा पठानकोट एयरबेस पर किया  बड़ा हमला किया था| अब पठानकोट पर भारतीय वायुसेना के अटैक हेलीकॉप्टर्स, अपाचे की पहली स्कॉवड्रन बनायीं जा रही है| अमेरिका ने ईराक में खाड़ी के युद्ध के अलावा भी अफगानिस्तान में आतंकियों के कैंप (और गुफाओं) पर हमला करने के लिए इन अपाचे हेलीकॉप्टर्स का प्रयोग किया है| 

वहीं ये हेलीकॉप्टर्स दिन  हो या रात किसी भी मौसम में ऑपरेशन कर सकते हैं| इसके साथ ही ये  से ऊंचे पहाड़ों में बने आतंकी कैंपों और दुश्मन कई सेना के ठिकानों और छावनियों पर हमला करने में कामयाब हो सकते है| भारतीय वायुसेना नए पठानकोट स्थित अपाचे की स्कॉवड्रन का  ‘ग्लैडिएटर’ (Gladiator) नाम रखा गया है|  

इसे भी पढ़े: भारतीय सीमा में घुसे पाकिस्तानी फाइटर विमान F16 को भारत ने मार गिराया