दिल्ली ‘गैस चैम्बर’ में हुई तब्दील, सीएम केजरीवाल ने पड़ोसी राज्य को ठहराया जिम्मेदार

देश की राजधानी दिल्ली इन दिनों गंभीर वायु प्रदूषण की चपेट में हैं। दिल्ली के साथ–साथ इसके आसपास के क्षेत्र एनसीआर के शहरों गाजियाबाद, नोएडा, गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत में वायु गुणवत्ता का स्तर काफी खतरनाक बना हुआ है। हालात इतने बदतर हैं, कि दिल्ली ‘गैस चैम्बर’ में तब्दील हो गई है। प्रदूषण के कारण दिल्ली के सभी स्कूल 5 नवंबर तक की छुट्टी घोषित कर दी गई है। दिल्ली में प्रदूषण का प्रमुख कारण पड़ोसी राज्यों- पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने की घटनाओं को माना जा रहा है।

ये भी पढ़े: पीएम मोदी आज से तीन दिनों की थाईलैंड यात्रा पर होंगे रवाना, RCEP समिट में होंगे शामिल

दिल्ली में प्रदूषण का लेवल बीते चार दिनों में बेहद खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है| दिल्ली में चारों तरफ सफेद चादर की शक्ल में प्रदूषण फैला है| फिलहाल सबसे खतरनाक पीएम 2.5 का स्तर 500 तक पहुंच चुका है| दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने इसके लिए पड़ोसी राज्यों को जिम्मेदार बताया है| निरंतर बढ़ते हुए प्रदूषण के बाद लोगों को खुली हवा में सांस लेने में परेशानी होने लगी है| दिल्ली सरकार ने स्कूलों में मास्क बांटने का कार्य शुरू कर दिया हैं|

दिल्ली में प्रदूषण से लोगो की स्थिति काफी बेहाल हो रही है, जबकि पड़ोसी राज्यों में लगातार पराली जलने की घटनाएं सामने आ रही हैं| दिल्ली के लगभग सभी इलाको नें प्रदुषण की सफेद चादर ओढ़ रखी है, पराली जलना भी उसका एक बड़ा कारण है. दिल्ली सरकार लगातार हरियाणा और पंजाब सरकार से इसकी शिकायत करती आई है, लेकिन फिर भी किसान खेतों में पराली जला रहे हैं|

ये भी पढ़े: मौसम विभाग ने केरल के छह जिलों में जारी किया ऑरेंज अलर्ट, भारी बारिश की संभावना