चुनाव आयोग ने दिखाए कड़े तेवर: लगाई योगी और मायावती पर कमशः 72 घंटे और 48 घंटे के लिए प्रचार पर रोक

आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में चुनाव आयोग ने सख्त कदम उठाया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बीएसपी सुप्रीमो मायावती के विवादित बयानों पर चुनाव आयोग ने कड़ी कार्रवाई की है। चुनाव आयोग ने योगी आदित्यनाथ पर अगले 72 घंटे और मायावती पर 48 घंटे तक प्रचार करनें पर प्रतिबन्ध लगा दिया है । यह प्रतिबन्ध मंगलवार 16 अप्रैल, सुबह 6 बजे से प्रभावी हो चुका है ।

ये भी पढ़े: मेनका गांधी और आजम खान को चुनाव आयोग ने प्रचार से रोका  

लोकसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान से दो दिन पूर्व यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 9 अप्रैल को मेरठ में विवादित बयान में उन्होंने कहा था, ‘हिंदुओं के पास बीजेपी के अलावा कोई और विकल्प नहीं बचा है। अगर कांग्रेस, सपा और बसपा को अली में विश्वास है, तो हमें बजरंगबली में विश्वास है। देश में दलित-मुस्लिम एकता संभव नहीं है, क्योंकि विभाजन के वक्त दलित नेताओं के साथ पाकिस्तान में किस तरह का बर्ताव हुआ, यह दुनिया ने देखा है’ |

7 अप्रैल को सहारनपुर के देवबंद में बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने जनसभा की थी। उस दौरान उन्होंने कहा था, ‘कांग्रेस मानकर चल रही है हम जीतें या न जीतें लेकिन गठबंधन नहीं जीतना चाहिए, इसलिए कांग्रेस ने ऐसी जाति और ऐसे धर्मों के लोगों को खड़ा किया है, जिससे बीजेपी को फायदा पहुंचे। मैं मुस्लिम समाज के लोगों को कहना चाहती हूं, कि आपको वोट बांटना नहीं है बल्कि एकतरफा वोट देकर गठबंधन को सफल बनाना है।’ चुनाव आयोग ने मायावती के इस बयान को लेकर कड़ी कार्रवाई करते हुए मायावती को अगले 48 घंटे तक प्रचार से रोक दिया है।

ये भी पढ़े: पार्टियों में BSP 669 करोड़ रुपये बैंक बैलंस के साथ सबसे अमीर पार्टी, वही बीजेपी (BJP) पांचवें स्थान पर