मेनका गांधी और आजम खान को चुनाव आयोग ने प्रचार से रोका

चुनाव आयोग ने केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी और समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खान को विवादित बयान देने के मामले में मंगलवार से अलग-अलग अवधि के लिए चुनाव प्रचार करने से रोक दिया है|  आयोग नें सोमवार को इस बारे में आदेश जारी कर मेनका गांधी को मंगलवार को सुबह दस बजे से अगले 48 घंटे तक देश में कहीं भी किसी भी प्रकार के चुनाव प्रचार में हिस्सा लेने से रोक दिया है| वहीं, इसी तरह एक अन्य आदेश में आजम खान को भी मंगलवार सुबह दस बजे से अगले 72 घंटे तक चुनाव प्रचार करने से रोका गया है|

ये भी पढ़े: जूता बरसाना पड़ गया बहुत भारी, शरद त्रिपाठी को बीजेपी से नहीं मिला टिकट

चुनाव आयोग के अनुसार प्रचार के दौरान इन दोनों नेताओं ने आचार संहिता का उल्लंघन किया है, जिसके कारण इन्हें प्रचार करने से रोका गया है| मेनका गांधी उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर संसदीय क्षेत्र से भाजपा और आजम खान रामपुर संसदीय क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार हैं। सुलतानपुर लोकसभा सीट से प्रत्याशी और केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने प्रचार के दौरान मुसलमानों से कहा था, ‘चुनाव तो मैं जीत रही हूं, आप भी वोट दे देना वरना फिर काम कराने आओगे तब देखना।’ इन्हीं बयान बाजियों को संज्ञान में लेते हुए चुनाव आयोग ने इन दोनों नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करते हुए इन्हें चुनाव प्रचार करनें से बाहर कर दिया है। 

रामपुर लोकसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी जयाप्रदा के खिलाफ आजम खान ने आपत्तिजनक टिप्पणी के साथ-साथ अधिकारियों को ‘तनखैया’ करके संबोधित किया था। आजम खान ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा था, कि अधिकारियों से डरने की जरूरत नहीं है। आयोग ने संविधान के अनुच्छेद 324 के अंतर्गत दोनों नेताओं को देश में कहीं भी प्रचार अभियान में हिस्सा लेने से रोका है। यह दूसरा मौका है, जब आजम खान को आयोग द्वारा प्रचार करने से प्रतिबंधित किया गया है । 

ये भी पढ़े: जयाप्रदा ने मायावती से की अपील, बोली – मेरी मदद कीजिए और सपा से समर्थन वापस लें