कश्मीर मुद्दे पर फ्रांस ने किया भारत का समर्थन, कहा- ‘कोई तीसरा पक्ष न दे दखल’

एक बार फिर कश्मीर मुद्दे पर फ्रांस ने भारत का खुलकर समर्थन करते हुए साफ शब्दों मे कहा है कि, भारत ने कश्मीर पर जो फैसला किया है, वो उसकी संप्रभुता का निर्णय है और फ्रांस इस मुद्दे पर भारत के साथ है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युएल मैक्रों ने कहा कि, कश्मीर भारत-पाकिस्तान का द्विपक्षीय मुद्दा है इसलिए किसी भी तीसरे देश को इसमें नहीं आना चाहिए।’

इसे भी पढ़े: पीएम मोदी आज से तीन देशो के दौरे पर, फ्रांस में G-7 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के बाद UAE और बहरीन जाएंगे

इन दिनों देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिनों के दौरे पर चल रहें| इस बीच मोदी जी-7 समिट में शामिल हुए तभी मोदी जी और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युल मैक्रों के बीच द्विपक्षीय बैठक करके बातचीत हुई| वहीं कश्मीर पर फ्रांस ने दुनिया को बता दिया और पाकिस्तान को चेता दिया कि, वो हिंदुस्तान और उसके प्रधानमंत्री मोदी की नीति और नीयत के साथ खड़ा है इसलिए बेहतर है, कि इमरान अपनी उछल कूद कश्मीर पर बंद कर दें।

मैक्रों ने कहा, ‘‘मैंने उनसे कहा कि, भारत और पाकिस्तान को इस मुद्दे का समाधान निकालना होगा और किसी तीसरे पक्ष को इस क्षेत्र में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए या हिंसा को भड़काना नहीं चाहिए।” फ्रांसीसी राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘मैं कुछ दिनों बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से भी बात करूंगा और उनसे कहूंगा कि वार्ता द्विपक्षीय होनी चाहिए।”

फिर  मैक्रों के बयान के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि, भारत और फ्रांस के बीच दोस्ती किसी स्वार्थ पर नहीं टिकी है, बल्कि यह स्वतंत्रता, समानता और भाइचारे के ठोस सिद्धांतों पर आधारित है।

इसे भी पढ़े: फ्रांस लगाएगा फेसबुक, गूगल जैसी कंपनियों पर डिजिटल कर सांसदों से मिली मंजूरी