संबित पात्रा से ट्रिलियन में कितने जीरो लगते हैं पूछने वाले कौन है ‘गौरव वल्लभ’

अभी तक किसी न किसी दिन टीवी डिबेट्स में ‘बैठ जा मौलाना’ और ‘मंदिर वहीं बनाएंगे’ जैसे डायलॉग बोलकर संबित पात्रा लाइमलाइट में बने रहने वाले संबित पात्रा आज अचानक असमंजस में दिखाई दिए, क्योंकि अभी एक टीवी डिबेट में कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने संबित पात्रा से पश्न करते हुए पूछा कि, ‘एक ट्रिलियन में कितने जीरो होते हैं?’ उतने समय संबित के होश उड़ गए और वो उस समय केवल बगलें झांकते हुए दिखाई दिए और बाद में जब बात नहीं बनी तो उन्होंने फिर गाना गाना शुरू कर दिया| ‘न सिर झुका के जियो और न सिर उठा के जियो’ लेकिन वल्लभ पूरे फॉर्म में थे, उन्होंने भी उसे गाने के बोल को गुनगुनाते हुए फिर पूछा- बात मत घुमाइए, बताइए, एक ट्रिलियन में कितने ज़ीरो होते हैं?  

इसे भी पढ़े: गुलाम नबी आजाद को सुप्रीम कोर्ट से जम्मू-कश्मीर जाने की मिली इजाजत, चार जिलों का कर सकेंगे दौरा

अब इस बहस का वीडियो सोशल मीडिया पर भी तेजी से वायरल हो रहा है|

वहीं कुछ लोग इस पर कमेंट करते हुए लिख रहे हैं कि गौरव कौन हैं, इन्हें तुरंत प्रभाव से कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित किया जाए, ‘ तो वहीं कुछ लोग लिख रहें हैं कि, विपक्षी पार्टियों को गौरव को अपना प्रवक्ता बना देना चाहिए |’

वहीं गौरव बल्लभ  राजस्थान के पाली शहर से है और इनकी उम्र 42 वर्ष हैं| इनका कहना है कि, ये न तो राष्ट्रीय अध्यक्ष बनना चाहते हैं और न विपक्षी पार्टियों के नेता| वो बड़ी ही शालीनता से कहते हैं, ‘मेरा ऐसा कोई विचार नहीं है| मीडिया से बातचीत में उन्होंने बताया, ‘2017 में मैं टेक्सस यूनिवर्सिटी से पढ़ाकर लौटा था और देश में मॉब लिंचिंग के नाम पर लोगों को लामबंद किया जा रहा था| मैं कांग्रेस की विचाधारा से जुड़ाव महसूस करता था, इसलिए 2018 तक पैनेलिस्ट के तौर पर काम किया|

गौरव जी 20 देशों में प्रस्तुत कर चुके हैं शोध पेपर

साल 2016 में गौरव लोकसभा रिसर्च फेलोशिप के तहत सस्टेनेबल डेवल्पमेंट गोल्स पर रिसर्च भी कर चुके हैं| गौरव नें बताया, ‘मैं तीन किताबें लिख चुका हूं. मैंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से लेकर 20 देशों में अपने रिसर्च पेपर प्रस्तुत किए हैं|

अंत तक नहीं बताए एक ट्रिलियन में ज़ीरो की संख्या

टीवी की डिबेट्स में संबित पात्रा और गौरव वल्लभ एक दूसरे पर तंज कसते नजर आते हैं, लेकिन ऑफ द कैमरा ऐसा नहीं है| वल्लभ बताते हैं, ‘हमारी कभी चाय पानी पर मुलाकात नहीं हुई हो, लेकिन हम जब मिलते हैं तो एक दूसरे से इज्जत से ही बात करते हैं| हां उन्होंने मुझे अभी तक जीरो गिनकर नहीं बताए हैं| उस दिन की बहस के बाद सीधे उन्होंने अपनी फ्लाइट ली और निकल गए थे|’

इसे भी पढ़े: SC ने हाईकोर्ट से जम्‍मू कश्‍मीर की मांगी रिपोर्ट, कहा – ‘दावा गलत होने पर परिणाम भुगतने को रहे तैयार’