बज ही गया लोकसभा चुनाव का बिगुल, 7 चरणों में होगा मतदान, 23 मई को आएंगे नतीजे

चुनाव आयोग द्वारा लोकसभा चुनाव के बारे में आज रविवार शाम को लगभग पांच बजे ऐलान किया गया और साथ ही यह भी कहा गया कि इस बार सभी बूथों पर मतदान के दौरान वीवीपैट (VVPAT) का इस्तेमाल किया जाएगा। चुनाव आयोग द्वारा बताया गया कि आपराधिक रिकॉर्ड की जानकारी हर उम्मीदवार को देनी होगी। आचार संहिता के बारे में कहा गया कि आज से तत्काल देशभर में चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है। ये चुनाव 11 अप्रैल 2019 को शुरू होकर 19 मई 2019 तक पूरे सात चरणों में संपन्न होगा और 23 मई 2019 को चुनाव के परिणाम आएंगे। 

ये भी पढ़े: वीवीपीएटी (VVPAT) मशीन क्या होती है, विस्तार से जानकारी

लोकसभा चुनाव कार्यक्रम 2019
चरण पहला दूसरा तीसरा चौथा पांचवां छठा सातवां 
तारीख11 अप्रैल18 अप्रैल23 अप्रैल29 अप्रैल6 मई12 मई19 मई
सीटें919711571515959
राज्य2013149778

लोकसभा चुनाव 2019
No photo description available.

असम में तीन चरणों में और बिहार में सात चरणों में होगा चुनाव

LokSabha Elections 2019 : असम में तीन चरणों में किए जाएंगे चुनाव 11, 18 और 23 अप्रैल को जबकि बिहार में सात चरण में होंगे चुनाव- 11 अप्रैल, 18 अप्रैल, 23 अप्रैल, 29 अप्रैल, 6 मई, 12 मई और 19 मई।

पीएम मोदी ने कहा- यह लोकतंत्र का पर्व है

लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा ट्वीट किया गया जिसमें उन्होंने कहा कि यह लोकतंत्र का उत्सव है। मैं अपने भारतीय अनुयायियों से यह अपील करता हूं कि वह 2019 लोकसभा में हिस्सा लेकर इस उत्साह को और बढ़ाएं। मैं उम्मीद करता हूं कि इस चुनाव में ऐतिहासिक मतदान होंगे। मैं खासकर पहली बार वोट डालनेवाले मतदाताओं से यह कहना चाहूंगा कि बड़ी संख्या में आकर वोट करें।

ये भी पढ़े: मतदान क्या होता है, क्यों आवश्यक जानिए विस्तार से

चुनाव आयोग द्वारा जैसे ही लोकसभा चुनावों की तिथियों की घोषणा हुई वैसे ही सियासत भी तेज हो गई है। चुनाव आयोग द्वारा घोषणा होते ही कांग्रेस द्वारा ट्वीट किया गया और
बिगुल बजा है, अब जनता की बारी है, झूठ से लड़ने की, पुरजोर तैयारी है।
झूठों के इस शासन को हम देंगे मात, कमर कसी है हमने, अबकी जीत हमारी है।।#JeetHogiSachKi

ये भी पढ़े: जानिए मतदान से जुड़े ऐसे सवालों के जवाब जिनको आप जानना चाहते हैं

2014 लोकसभा चुनाव की स्थिति
2014 में भाजपा सबसे ज्यादा 282 सीटें जीत कर बड़ी पार्टी के रूप में सामने आई जबकि देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस को केवल 44 सीटों ही मिल पायी उसके बाद एआईएडीएमके ने 37, तृणमूल कांग्रेस ने 34 और बीजू जनता दल ने 20 सीटों पर जीत दर्ज की थी । अगर देश के सबसे बड़े लोकसभा क्षेत्र वाले राज्य उत्तर प्रदेश की बात करें तो यहां के हालात भी 2014 में पूरी तरह से भाजपा के साथ थे। यहां भाजपानीत गठबंधन ने 73 सीटें जीती थी, जबकि समाजवादी पार्टी केवल 2 सीट पर सिमट गई। वहीं कांग्रेस को भी सिर्फ 2 सीटें मिली और बसपा एक भी सीट हासिल करने में कामयाब नहीं हो सकी।