शहीद भगत सिंह का जन्मदिन आज, जानिए उनके अनमोल विचार और कोट्स

0
328

आज शनिवार 29 सितंबर को भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के सबसे प्रभावशाली क्रांतिकारी  भगत सिंह का जन्मदिन है| इनका जन्म 28 सितंबर, 1907 को हुआ था। इसके बाद उनकी मृत्यु 23 वर्ष की आयु में हो गई थी, लेकिन इतनी कम उम्र में ही उन्होंने अपने जीवनकाल में काफी उपलब्धि हासिल कर ली थी| 

Advertisement

इसे भी पढ़े: आखिर 27 नवंबर को क्यों मनाते हैं ‘विश्व पर्यटन दिवस’, जानिए वजह

भगत सिंह, शिवराम राजगुरु और सुखदेव थापर के साथ, एक ब्रिटिश पुलिस अधिकारी, जॉन पी सॉन्डर्स को मारने की साजिश के लिए मौत की सजा सुनाई गई थी, जिन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन के नेता लाला लाजपत राय पर क्रूर पुलिस कार्रवाई करने का आदेश दिया था। अब उन्हें शहीद भगत सिंह के नाम से जाना जाता है।

कोट्स

1.”सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है। 

देखना है जोर कितना बाजू ए कातिल में है?”

2.”राख का हर एक कण

मेरी गर्मी से गतिमान है 

मैं एक ऐसा पागल हूँ 

जो जेल में भी आजाद है|”

3.जो व्यक्ति विकास के लिए खड़ा है

 उसे हर एक रूढ़िवादी चीज की आलोचना करनी होगी, 

उसमें अविश्वास करना होगा तथा उसे चुनौती देनी होगी|

शहीद भगत सिंह के अनमोल विचार

1. “किसी भी इंसान को मारना आसान है, परन्तु उसके विचारों को नहीं। महान साम्राज्य टूट जाते हैं, तबाह हो जाते हैं, जबकि उनके विचार बच जाते हैं’

2.“जरूरी नहीं था कि क्रांति में अभिशप्त संघर्ष शामिल हो। यह बम और पिस्तौल का पंथ नहीं था।’’

3. “आम तौर पर लोग जैसी चीजें हैं उसके आदी हो जाते हैं और बदलाव के विचार से ही कांपने लगते हैं। हमें इसी निष्क्रियता की भावना को क्रांतिकारी भावना से बदलने की जरूरत है।”

4.“मैं इस बात पर जोर देता हूँ कि मैं महत्त्वाकांक्षा , आशा और जीवन के प्रति आकर्षण से भरा हुआ हूँ। पर मैं ज़रुरत पड़ने पर ये सब त्याग सकता हूँ, और वही सच्चा बलिदान है।”

5.“इंसान तभी कुछ करता है जब वो अपने काम के औचित्य को लेकर सुनिश्चित होता है , जैसाकि हम विधान सभा में बम फेंकने को लेकर थे।”

6. “क़ानून की पवित्रता तभी तक बनी रह सकती है जब तक की वो लोगों की इच्छा की अभिव्यक्ति करे।”

7.“निष्ठुर आलोचना और स्वतंत्र विचार ये क्रांतिकारी सोच के दो अहम् लक्षण हैं।”

8. “सूर्य विश्व में हर किसी देश पर उज्ज्वल हो कर गुजरता है परन्तु उस समय ऐसा कोई देश नहीं होगा जो भारत देश के सामान इतना स्वतंत्र, इतना खुशहाल, इतना प्यारा हो।”

इसे भी पढ़े: हिंदी दिवस कब मनाया जाता है, जानिए इसका इतिहास और दिलचस्प बातें

Advertisement