आईएनएस खंडेरी पनडुब्बी नौसेना के बेड़े में हुई शामिल, समुद्र में लगातार 45 दिन तक रहने की क्षमता

आईएनएस खंडेरी पनडुब्बी आज नौसेना के बेड़े में शामिल हो गई है| इस पनडुब्बी के बेड़े में शामिल होने से नौसेना को साइलेंट किलर की ताकत मिली है| रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह नौसेना ने मुंबई में एक विशेष कार्यक्रम में इसे नौसेना में शामिल किया। बता दें, आईएनएस खंडेरी फ्रांस ऑरिजन की स्‍कॉर्पियन श्रेणी की दूसरी डीजल-इलेक्ट्रिक सबमरीन है। आईएनएस खंडेरी भारत की दूसरी स्कार्पियन-वर्ग की मारक पनडुब्बी है, जिसे पी-17 शिवालिक वर्ग के युद्धपोत के साथ नौसेना में शामिल किया गया है, आज रक्षामंत्री राजनाथ सिंह इसे हरी झंडी दिखाई|

ये भी पढ़े: भारतीय वायुसेना में शामिल हुए 8 अपाचे, जानिए इनकी खासियत

आईएनएस खंडेरी में 40 से 45 दिनों तक सफर करने की क्षमता है| आईएनएस खंडेरी को नौसेना में शामिल करने के बाद राजनाथ सिंह ने कहा कि अब 26/11 जैसी साजिश कभी सफल नहीं होगी| आईएनएस खंडेरी पनडुब्बी को नौसेना को सौंपने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, पाकिस्तान को समझना चाहिए, कि आज हमारी सरकार के मजबूत संकल्प से आईएनएस खंडेरी के बेड़े में शामिल होने के बाद नेवी की क्षमता बढ़ गई है|

अब भारत पाकिस्तान को पहले से बड़ा झटका देने में सक्षम है| रक्षा मंत्री ने कहा, कि खंडेरी नाम ‘स्वॉर्ड टूथ फिश’ से प्रेरित है, जो समुद्र के तल के करीब पहुंचकर शिकार करने के लिए जानी जाने वाली एक घातक मछली है|

मुंबई के समुद्र तट की रक्षा के लिए नौसेना की दूसरी सबसे अत्याधुनिक पनडुब्बी में तट पर रह कर करीब 300 किलोमीटर दूर स्थित दुश्मन के जहाज को नष्ट करने की क्षमता है|

समुद्र की गहराई में दो साल के परीक्षण के बाद खंडेरी को नौसेना को सौंपा गया है| यह पनडुब्बी पानी से किसी भी युद्धपोत को नष्ट करने की क्षमता रखती है| इसी के साथ देश में निर्मित यह पनडुब्बी एक घंटे में 35 किलोमीटर की दूरी आसानी से तय कर सकती है|

ये भी पढ़े: अपाचे के शामिल होने पर वायु सेना प्रमुख दिखे उत्साहित, कहा -‘शूट फायर एंड फारगेट’ की तर्ज पर करेगा काम