Chhapaak Movie Review In Hindi: ‘छपाक’ मूवी रिव्यू, दीपिका ने निभाया दमदार किरदार

मेघना गुलजार (Meghna Gulzar) ने पहले दोनों फिल्में ‘तलवार’ और ‘राजी’ असली जिंदगी से जुड़ी घटनाओं को लेकर बनाई गयी है, और वह दर्शकों का दिल जीतने में सफल रही है | मेघना गुलजार ने ‘फिल्म छपाक (Chhapaak)’ के लिए जो टॉपिक चुना एसिड अटैक सरवाइवर का और एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण कोलिया, उनकी इन्ही दोनों बातों ने फिल्म की यूएसपी बढ़ा दिया है | सधे हुए डायरेक्शन और अंतहीन पीड़ा की कहानी को दिल से लेकर दिमाग तक को हिला देती है, और एसिड अटैक सरवाइवर लक्ष्मी अग्रवाल की वास्तविक जीवन को परदे पर प्रस्तुत करने में मेघना गुलजार ने अपने तरफ से कोई कोई-कसर बाकी नहीं रखी है, और इस तरह ‘फिल्म छपाक (Chhapaak)’2020 की एक भावपूर्ण फिल्म है|

इसे भी पढ़े: द लीस्ट ऑफ दीज: द ग्राहम स्टेंस स्टोरी का मूवी रिव्यू पढ़ लें तब जाये मूवी देखने

फिल्म छपाक  (Chhapaak)’ की  कहानी मालती यानी दीपिका पादुकोण की होती है , जो कि एसिड अटैक सरवाइवर होती  है , और इस घटना के बाद वह अपनी जिंदगी की जंग को पूरी मेहनत और लगन के साथ लड़ती है| मालती के जंग में उसका साथ दे रहे हैं अमोल (विक्रांत मैसे) और उनकी वकील (मधुरजीत सर्गी) हैं , तथा इस फिल्म की कहानी कहीं भी अधिक नाटकीय नहीं है ,और मालती के लगन और धैर्य की ओर इशारा करती है ,और मेघना गुलजार ने पूरी फिल्म को कहीं भी उपदेशात्मक बनने नहीं दिया है, और यही बात ‘फिल्म छपाक ‘ की हकीकत बनकर उभरती हुई दिख रही है |

फिल्म ‘छपाक (Chhapaak)’ की हिम्मत के बारें में बात करें तो दिल को छू लेने वाली कहानी है , और साथ ही इमोशनल कहानी को जबरदस्त अंदाज में पेश करने वाली दीपिका पादुकोण की एक्टिंग इस फिल्म की जान है | दीपिका पादुकोण ने बहुत ही सावधानी के साथ मालती के कैरेक्टर को परदे पर प्रस्तुत किया है, और मालती के जीवन की हर छोटी – छोटी चीजों को पढ़ने की कोशिश की है, और फिर वह चाहे मालती का दुःख हो, खुशी हो, कानूनी प्रक्रिया हो या जिंदगी की जंग हो, हर मोड़ पर दीपिका पादुकोण ने दिल जीत लिया है , और विक्रांत मैसी ने भी परफेक्ट एक्टिंग के जरिये दीपिका पादुकोण के साथ बेहतरीन प्रदर्शन किया है |

‘फिल्म छपाक  (Chhapaak)’ के दो डायलॉग हैं जिसे सुनकर शरीर के रोगंटे खड़ी हो जाती है, ‘नाक नहीं है, कान नहीं है, झूमके कहां लटकाऊंगी’ और ‘कितना अच्छा होता यदि एसिड बिकती ही नहीं मिलती ही नहीं तो फेकते कहाँ से’ इस तरह मेघना गुलजार ने बहुत ही साधारण शब्दों में कहानी को कहा है लेकिन उसके असर को कहीं भी फीका नहीं पड़ने दिया है | इस तरह ‘फिल्म छपाक’ महिलाओं के विरोध होने वाले अमानवीय अपराध के आधार पर बुनी गई पॉवरफुल फिल्म है, जिसमें जिंदगी की असलियत , एक लड़की का संघर्ष पूर्ण जिंदगी जीने की जिज्ञाशा और किसी भी परिस्थिति के बावजूद अपने दम पर निर्भर रहने की कहानी है, जिसे देखना तो बनता ही है |

  • रेटिंग:- 3.5/5 स्टार
  • डायरेक्टर:-मेघना गुलजार
  • कलाकार:- दीपिका पादुकोण, विक्रांत मैसे और मधुरजीत सर्गी

इसे भी पढ़े: Kanchana 3 Movie Review In Hindi