गली बॉय मूवी रिव्यू – यहाँ पढ़े कैसी है फिल्म

0
147

फ़िल्म ‘गली बॉय’ एक साधारण कहानी पर बनाई गई फिल्म है जिसमे मुख्य किरदार बॉलीवुड एक्टर रणवीर सिंह और आलिया भट्ट निभा रहे है, यह फ़िल्म बहुत बेहतरीन फिल्मों में से एक है | बता दें जोया अख्तर की यह फ़िल्म सिनेमाघरों में आ चुकी है | इस फ़िल्म के गाने पहले लोगों की जुबां पर हैं | सिनेमाघरों में आने से पहले ही यह फ़िल्म सुर्ख़ियों में छा गई है |

Advertisement

गली बॉय मूवी रिव्यू

इस फ़िल्म में रणवीर एक रैपर का किरदार निभाते हुए पहली बार नजर आयेंगे | वहीं आलिया भट्ट ने एक बार फिर साबित कर दिया कि उनकी जैसी एक्टिंग कोई और एक्टर कर नहीं सकता है | बता दें कि इस फ़िल्म की कहानी और गाने उन लोगों के लिए हैं जो समाज के दबे-कुचले वर्ग से हैं, जिन्हें समाज बहिष्कार कर देता है परन्तु इन मुसीबतों का सामना करने बावजूद भी वे सपना देखना नहीं छोड़ते हैं | उन्हें पूरा भरोसा होता है कि अपना टाइम आएगा और वो उसी टाइम को लाने के लिए सब कुछ कर डालते हैं। 

फ़िल्म की कहानी

‘गली बॉय’ की कहानी बहुत ही साधारण तरीके से लिखकर दर्शकों के बीच लाइ गई है | फ़िल्म की कहानी मुंबई के धारावी की एक चाल से प्रारम्भ होती है | इसी चाल में रहने वाले मुराद (रणवीर सिंह)  गरीबी के साथ-साथ सामाजिक बहिष्कार का सामना करने वाला एक युवक है | जो सपना देखता है कि वह एक बड़ा रैपर बने लेकिन,उसकी अपने पिता आफताब शेख (विजय राज) से कुछ ख़ास बनती नहीं है क्योंकि उसके पिता दूसरी शादी कर लेते हैं |

उसके घर में उसकी अम्मी, दादी, छोटा भाई, पिता और छोटी अम्मी एक छोटे से घर में रहते हैं लेकिन मुराद रैपर बनने के सपने से पीछे नहीं हटता है | मुराद मेडिकल की पढ़ाई करने वाली एक जिंदादिल लड़की सैफीना (आलिया भट्ट) से प्यार कर बैठता है | सैफीना ऐसी लड़की होती है जो उसके बॉयफ्रेंड पर नजर डालने वाली लड़की का मुंह तोड़ जवाब देती है।

मुराद की जिन्दगी में बदलाव तब आ जाता है जब वह एक दिन अपने कॉलेज के लड़के रैपर एमसी शेर (सिद्धांत चतुर्वेदी) को रैप करते देखते है | इसके बाद ही वह श्रीकान्त के साथ रहने लगता है | फिर दोनों एक टीम बनाकर रैप करते है | उसके इस काम में उसका पूरा परिवार उसके साथ खड़ा रहता और दोस्त भी साथ देते हैं जिससे वह एक दिन बड़ा रैपर बन जाता है | 

Advertisement