Health Tips: प्रदूषण से सेहत को बचाने के लिए जानें ये आयुर्वेद के ज़बरदस्त उपाय

काफी लोग अपने आपको प्रदुषण से नहीं बचा पाते हैं, और बाद में उन्हें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ जाता है| जानकारी देते हुए बता दें, कि प्रदूषण से होने वाली समस्याओं से बचने के लिए एक गिलास दूध में 3 ग्राम या आधा छोटा चम्मच हल्दी मिलाकर जरूर पीना चाहिए| इससे आपको कोई परेशानी नहीं होगी, इसके अलावा आप एक चम्मच शहद में 3 ग्राम हल्दी मिलाकर भी पी सकते हैं।

इसे भी पढ़े: बुखार में ज़बरदस्त तरीके से मदद करती है धनिया पत्ता की चाय, जानें ऐसे ही अन्य घरेलू नुस्खों के बारे में

आयुर्वेद के ज़बरदस्त उपाय

1.पहले से तुलसी का जूस बनाकर रख लें, इसके बाद 10-15 मिलीलीटर तुलसी के जूस को पानी मिलाकर दिन में दो बार पियें। यह आपकी सांस की नली या श्वसन तंत्र से प्रदूषक तत्व हटाने में मददगार साबित होगा। इसके  अलावा घर में तुलसी के 5-6 पत्तों को पीस कर उससे रस निकाल लें और एक चम्मच शहद मिलाकर ले सकते हैं।

2.दिन में 2-3 चम्मच देसी घी खाने से हमारे शरीर को काफी राहत मिलती है क्योंकि घी शरीर के विषैले तत्वों को बाहर कर देता है। श्वसन-नली बंद होने पर पिपरमिंट ऑयल की 2-3 बूंदें या यूकेलिप्टस ऑयल की 4-5 बूंदें डाल कर दिन में दो बार 5 मिनट के लिए भाप लेना भी काफी फायदेमंद  होता है। 

3.नियमित रूप से फुल-बॉडी मसाज करवाने से भी शरीर को काफी राहत मिलती है क्योंकि यह शरीर के लिम्फैटिक सिस्टम को स्वस्थ बनाता है। सर्दियों में सरसों, ऑलिव ऑयल से मसाज किया जा सकता  हैं,गर्मियों में नारियल तेल से मसाज कर सकते है। इससे रक्त में जमा टॉक्सिक बाहर निकलते हैं और  रक्त संचार भी काफी बेहतर होता है, ऑक्सीजन की आपूर्ति तेजी से होने लगती है|

4.कुछ लोगों को प्रदूषण की वजह से आंखों में जलन होने लगती है तो उन लोगों को इसके लिए आंखों में गुलाब जल की बूंदें सुबह-शाम डालनी चाहिए क्योंकि इससे आंखें साफ रहेंगी। खीरे या आलू के स्लाइस काट कर भी आंखों को राहत पहुंचाने के लिए रख सकते हैं, इससे आंखों को ठंडक मिलेगी। प्रदूषण से  

5.बालों को प्रदूषण से बचाने के लिए बाहर जाने पर अपने बालों पर कोई कपड़ा डालें रहें| नहाने से एक घंटे पहले बालों की ऑयलिंग कर अच्छी तरह मसाज का लेना चाहिए।  

इसे भी पढ़े: गर्भावस्था में कम धूप सेंकी तो बच्चों में हो सकता लर्निंग डिसेबिलिटी का खतरा: जानिए क्या कहती है स्टडी