भारतीय भाषाओं पर फोकस करने वाली नई शिक्षा नीति (NEP) का ड्राफ्ट तैयार, HRD मिनिस्ट्री कर रही विचार

0
271

नए एचआरडी मिनिस्टर रमेश पोखरियाल निशंक के पद संभालते ही कुछ देर में ही नई एजुकेशन पॉलिसी बना रही कमिटी ने इसका ड्राफ्ट भेज दिया है। इस पॉलिसी के लिए इंतजार लगभग दो सालों  से चल रहा था और अंततः यह तैयार होकर मंत्रालय में भी अब आ चुकी है। इस पॉलिसी के अंतर्गत   सबसे ज्यादा फोकस भारतीय भाषाओं पर देखने को मिला है। इसमें यह भी बताया गया है कि बच्चों को कम से कम 5वी क्लास तक मातृभाषा में पढ़ाना अनिवार्य होना चाहिए |

Advertisement

इसे भी पढ़े: दिल्ली ट्रांसपोर्ट और मेट्रो में महिलाओं को फ्री सर्विस

इसके साथ ही शुरूआत से ही बच्चों को तीन भारतीय भाषाओं का ज्ञान देना आवश्यक होना चाहिए। इसके अलावा अगर विदेशी भाषा भी पढ़नी है तो इसे चौथी भाषा के रूप में किया जा सकता है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भी इसके पहले शुरूआत से प्राइमरी की पढ़ाई मातृभाषा में ही कराने की मांग करते हुए नजर आता रहा है। संघ से संबंधित लगभग ज्यादातर स्कूलों में ऐसा किया भी जा रहा है।

नई एजुकेशन पॉलिसी के अंतर्गत यह बताया गया है कि बच्चों को प्री-प्राइमरी से लेकर पांचवीं तक या आठवीं तक मातृभाषा में ही पढ़ाना चाहिए। प्री-स्कूल और पहली क्लास में बच्चों को तीन भारतीय भाषाओं के बारे में भी पढ़ाना जरूरी बताया गया है |

इसे भी पढ़े: PM Kisan Samman Nidhi Yojana (PMKSNY)

Advertisement