जलियांवाला बाग कांड के 100 साल पूरे, पीएम मोदी सहित ब्रिटिश उच्चायुक्त ने दी शहीदों को श्रद्धांजलि

अमृतसर के जलियांवाला बाग के नरसंहार कांड के आज यानी शनिवार को 100 साल पूरे हो गए हैं| 13 अप्रैल 1919 को जलियांवाला बाग में एक शांतिपूर्ण सभा के लिए एकत्र हुए हजारों भारतीयों पर अंग्रेज हुक्मरान ने अंधाधुंध गोलियां बरसाई थीं| जिसमें हजारो लोगो की मौत हो गयी थी|  जलियांवाला बाग के नरसंहार कांड को आज 100 साल पूरे हुए। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शहीदों को याद किया और शहीदों को श्रद्धांजलि दी, साथ ही ब्रिटिश उच्चायुक्त ने भी जलियांवाला बाग में शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की |

ये भी पढ़े: क्या आप ‘भारत के एडिसन’ को जानते हैं – अगर नहीं तो पढ़िए इनके बारे में

राष्ट्रपति ने ट्वीट कर कहा, ”100 साल पहले आज ही के दिन, हमारे प्यारे स्वाधीनता सेनानी जलियांवाला बाग में शहीद हुए थे| वह भीषण नरसंहार सभ्यता पर कलंक है. बलिदान का वह दिन भारत कभी नहीं भूल सकता, उनकी पावन स्मृति में जलियांवाला बाग के अमर बलिदानियों को हमारी श्रद्धांजलि.”

शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए पीएम मोदी ने लिखा, कि जलियांवाला बाग कांड के शहीदों के बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता. उनकी याद में हमें उस भारत के निर्माण के लिए और भी अधिक मेहनत करने के लिए प्रेरित करती है, जिस पर उन्हें गर्व होगा|

ब्रिटिश उच्चायुक्त ने जलियांवाला बाग में शहीदों को श्रद्धांजलि दी और विजिटर बुक में लिखे संदेश में जलियांवाला बाग कांड को शर्मनाक घटना के बताया।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी जलियांवाला बाग मेमोरियल में शहीदों को श्रद्धांजलि दी. इस दौरान मौके पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और राज्य सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू मौजूद थे|

ये भी पढ़े: वो वैज्ञानिक जिसने भारत को बना दिया न्यूक्लियर पावर