चंद्रयान -2 से संपर्क टूटने पर कुमार विश्वास ने लिखी कविता-“लो हमने बढ़कर खोल दिया इस अंतरिक्ष का दुर्ग द्वार’

मून लैंडर विक्रम से संपर्क टूट जानें पर पूरा भारत भावुक हुआ है,  क्योंकि यह संपर्क उस समय टूटा जब वह शनिवार तड़के चंद्रमा की सतह पर पहुंचने के केवल 2 किलोमीटर की दूरी पर था| वहीं इसरो के अध्यक्ष के. सिवन ने बताया, ‘संपर्क उस समय टूटा, जब विक्रम चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने वाले स्थान से 2.1 किलोमीटर दूर रह गया था| अभी आंकड़ों का इंतजार किया जा रहा है|’ इस खबर से एक तरफ इसरो के वैज्ञानिकों में निराशा साफ नजर आई तो , वही चंद्रयान -2 से संपर्क टूटने पर कुमार विश्वास ने भी कविता लिखी है|

इसे भी पढ़े: राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री सहित इन नेताओं ने ISRO को उसकी उपलब्धि के लिए दी बधाई

इस मुद्दे पर कवि कुमार विश्वास की भी प्रतिक्रिया आई है, उन्होंने ट्वीट किया, ‘आप के अनथक श्रम व प्रतिभा पर पूरे देश को बहुत गर्व है! प्रयास जारी रखें|’ कुमार ने एक कविता भी पोस्ट करते हुए लिखा, ‘हमने बढ़कर खोल दिया इस अंतरिक्ष का दुर्ग द्वार, हे चंद्रदेव लो भारत की मेधा का पहला नमस्कार, जिनके चेहरे में दिखते हैं रामेश्वर के अब्दुल कलाम, इसरो के सभी साधकों को भारत के जन-जन का सलाम’|

वहीं इसरो की तारीफ करते हुए पीएम मोदी  ने कहा, ‘जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं और यह यात्रा जारी रहेगी|’ इसी के साथ  मोदी ने कहा, “जब मिशन बड़ा होता है, तो निराशा से पार पाने की हिम्मत होना चाहिए| मेरी तरफ से आप सभी को बहुत बधाई है| आपने देश की मानव जाति की बड़ी सेवा की है |”

इसे भी पढ़े: चंद्रयान 2 मिशन पर ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा- ये आर्थिक मंदी से ध्यान भटकाने की कोशिश