समान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर 10 परसेंट रिजर्वेशन के खिलाफ आई एक और याचिका

0
103


केंद्र सरकार द्वारा सामान्य वर्ग के अंतर्गत आने वाले गरीबों को शिक्षा और नौकरियों में 10 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने के सम्बन्ध में सरकार को एक याचिका के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है। यह याचिका कारोबारी तहसीन पूनावाला द्वारा दायर की गयी है, याचिका में संविधान (103वां) संशोधन अधिनियम, 2019 को चुनौती दी गई है।

Advertisement

इस प्रकरण में पहले ही एक अन्य एनजीओ की ओर से डॉक्टर कौशल कांत मिश्रा ने भी अर्जी दाखिल की हुई है। इस याचिका पर इसी सप्ताह सुनवाई होने की संभावना है। याचिका में संविधान को चुनौती दी गई है। संविधान में (103वां) संशोधन अधिनियम, 2019 के माध्यम से सामान्य वर्ग के गरीबों को आरक्षण प्रदान किया गया है। इसमें अधिनियम को रद करने की मांग की गयी है|

याचिका में, इस संविधान संशोधन से आरक्षण के बारे में इंदिरा साहनी प्रकरण में उच्चतम न्यायालय के 1992 के निर्णय में प्रतिपादित मानदंड का उल्लंघन किया जा रहा है, जबकि इस निर्णय में स्पष्ट किया गया था, कि आरक्षण के लिये पिछड़ेपन को सिर्फ आर्थिक आधार पर परिभाषित नहीं किया जा सकता ।

पूनावाला ने याचिका मे कहा है, कि संविधान पीठ ने आरक्षण की अधिकतम सीमा 50 फीसदी निर्धारित की थी, और आर्थिक आधार पर आरक्षण का प्रावधान इस सीमा से बाहर है । याचिका में इस नये कानून स्टे लगाने का अनुरोध किया गया है। 

Advertisement