जल्द ही भारत बनेगा मोबाइल फ़ोन का ग्लोबल मैनुफैक्चरिंग हब, एप्पल-सैमसंग सहित कई दिग्गज कंपनी तैयार

लखनऊ | ऑनलाइन डेस्क

देश में मोबाइल सहित इलेक्ट्रॉनिक वस्तुए के उत्पादन हेतु भारत सरकार के आई टी मंत्रालय द्वारा पीएलआई स्कीम में 16 घरेलु व अन्तर्राष्ट्रीय कंपनी को अप्रूवल मिल चूका है| जिसमे सैमसंग, एप्पल, फॉक्सकान जैसी विश्वस्तरीय दिग्गज कंपनीया शामिल है| प्रपोजल के अनुसार, यह कंपनी अगले 5 साल में भारत 150 बिलियन से ज्यादा मोबाइल फ़ोन व इलेक्ट्रॉनिक्स वस्तुओ का निर्माण भारत में करेंगी, जिससे उन्हें पीएलआई स्कीम का लाभ मिलेगा|

देश में घरेलु कंपनीयो में लावा, भगवती (माइक्रोमैक्स), पैडगेट इलेक्ट्रॉनिक्स, यूटीएल नियोलिंक्स और ऑप्टिमस इलेक्ट्रॉनिक्स को भी अप्रूवल दिया गया है| योजना का लाभ कंपनी द्वारा निर्मित फ़ोन और इलेक्ट्रॉनिक आइटम के निर्माण व सेल्स पर निर्भर करेगा|

फ़िलहाल ग्लोबल मोबाइल मार्किट में एप्पल (37%) और सैमसंग (22%) के साथ आगे है| योजना का उद्देश्य भारत को मोबाइल व अन्य इलेक्ट्रॉनिक उद्पादों में नम्बर 1 बनाना है| स्कीम के बारे में केन्द्रीय आईटी मिनिस्टर रवि शंकर प्रसाद “पीएलआई स्कीम को बाहरी कंपनियों के साथ-साथ घरेलू मोबाइल फोन बनाने वाली कंपनियों और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस निर्माताओं से काफी एप्लीकेशन आए हैं. इंडस्ट्री ने अपने विश्वास को दोहराया है. यह एक वर्ल्ड लेवल मैनुफैक्चरिंग डेस्टिनेशन के रूप में भारत की शानदार प्रगति और आत्मनिर्भर भारत के प्रधानमंत्री के स्पष्ट आह्वान के साथ मजबूती को दर्शाता है.