Buddha Purnima 2019 On 18 May: बुद्ध पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और इसके महत्व की पूरी जानकारी

Buddha Purnima 2019 On 18 May: बुद्ध पूर्णिमा के इस बड़े पर्व को हिन्दू और बौद्ध दोनों धर्म के लोग बहुत ही उत्‍साह के साथ मनाते हैं| इस बार यह बुध्द पूर्णिमा 18 मई को मनाई जाएगी| वहीं कहा जाता है, कि इसी दिन बौद्ध धर्म के संस्थापक पक महात्मा बुद्ध का जन्म हुआ था, और बुद्ध को श्री हरि विष्‍णु का अवतार भी कहा जाता है| इसलिए हिन्दुओ के लिए भी इस पूर्णिमा का विशेष महत्व है| तो जानिये इस बार बुध्द पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त कब है, और इसकी पूजन की क्या विधि है?

इसे भी पढ़े: जानिए आदिगुरु शंकराचार्य को, मां के स्नान के लिए मोड़ दी नदी की दिशा ऐसे थे शंकराचार्य

बुद्ध पूर्णिमा की तिथि और शुभ मुहूर्त

पूर्णिमा तिथि प्रारंभ: 18 मई 2019 को सुबह 04 बजकर 10 मिनट से

पूर्णिमा तिथि समाप्‍त: 19 मई 2019 को सुबह 02 बजकर 41 मिनट तक रहेगी  

बुध्द पूर्णिमा का महत्व

वैसाख महीने की पूर्णिमा के दिन ही भगवान बुद्ध ने जन्म लिया था, इसलिए हिन्दू धर्म में बुद्ध पूर्णिमा का विशेष महत्व माना जाता है| कहा जाता है, कि महात्मा बुद्ध को सृष्टि के पालनहार श्री हरि विष्‍णु का नौवां अवतार है| इसके अलावा यह पूर्णिमा को सिद्ध विनायक पूर्णिमा या सत्‍य विनायक पूर्णिमा के नाम से भी प्रचलित है| वहीं हिन्‍दुओं के साथ-साथ बौद्ध धर्म के लोग भी इस दिन को बुद्ध जयंती के रूप में मनाते हैं|

भगवान बुद्ध ही बौद्ध धर्म के संस्थापक हैं| यह बुद्ध अनुयायियों के लिए एक बड़ा त्यौहार है| इस दिन अनेक प्रकार के समारोह आयोजित किए जाते हैं| अलग-अलग देशों में वहां के रीति- रिवाजों और संस्कृति के अनुसार कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है| श्रीलंका के लोग इस दिन को ‘वेसाक’ (Vesak) उत्सव के रूप में मनाते हैं|

बुद्ध पूर्णिमा से जुड़ी मान्यताएं

1.ऐसा माना जाता है, कि वैशाख की पूर्णिमा को ही भगवान विष्णु ने अपने नौवें अवतार के रूप में जन्म लिया था

2.भगवान कृष्ण के बचपन के दोस्त सुदामा वैशाख पूर्णिमा के दिन ही उनसे मिलने पहुंचे थे, इसी दौरान जब दोनों दोस्त साथ बैठे तब कृष्ण ने सुदामा को सत्यविनायक व्रत का विधान बताया था, सुदामा ने इस व्रत को विधिवत किया और उनकी गरीबी नष्ट हो गई

3.इस दिन धर्मराज की पूजा करने की भी मान्यता है| ऐसा कहा जाता है, कि सत्यविनायक व्रत से धर्मराज खुश होते हैं| माना जाता है, कि धर्मराज मृत्यु के देवता हैं, इसलिए उनके प्रसन्न  होने से अकाल मौत का डर कम हो जाता है   

इसे भी पढ़े: मोहिनी एकादशी 2019: इस शुभ दिन पर जाने कैसे करें व्रत, पूजन और कब है मुहूर्त