रंगी सब्जियों से हो सकता है इन बिमारियों का खतरा, इस तरह करें पहचान

बाजार में सब्जी खरीदने जाने वाले अधिकतर लोग चटकीले रंग में चमकते फल और सब्जियां देखकर महंगे होने के बावजूद भी खरीद लेते हैं, लेकिन यह आपके सेहत को नुकसान पहुंचा सकते हैं, क्योंकि इन दिनों बाजार में सब्जियों और फलों को बेचने के लिए व्यापारी उन्हें जिन रंगों से रंग रहें है, वह शरीर में ट्यूमर से लेकर कैंसर बना सकते हैं| वहीं, विशेषज्ञों का कहना है कि, “यह रंग और रसायन हमारे रक्त में रह जाते हैं। शरीर से बाहर नहीं निकलते। इसके कारण लिवर, किडनी और हृदय को भी गहरा नुकसान पहुंचता है।”

इसे भी पढ़े: खाना खाने के तुरंत बाद इन चीजों का सेवन हो सकता है खतरनाक, कहीं आप तो नहीं लेते?

अभी कुछ समय पहले ही एफएसडीए यानी खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन ने शहर की सभी सब्जी मंडियों में विक्रेताओं को इन हानिकारक रंगों और कीटनाशकों के दुष्प्रभाव की जानकारी दी है। इसके साथ ही दुबग्गा, हरदोई रोड, आशियाना एलडीए कॉलोनी, सीतापुर रोड, खुर्रम नगर, टेढ़ी पुलिया से सब्जियों के 37 नमूने लेकर भी जांच को भेजे दिए है| 

इस तरह से नुकसान पहुंचाते है रसायन  

बाजारों में बेची जाने वाली सब्जियों में सबसे ज्यादा हरे रंग की मिलावट की जाती है। जो  मेलेकाइट ग्रीन नामक रसायन होता है। यह खून में जमा रहता है, फिर कुछ समय बाद यह कोशिकाओं को विकृत करने लगता है। जिससे ट्यूमर और कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी बनने का डर बना रहता है। इसी तरह लाल रंग के लिए रोडामीन, पीले रंग के लिए ऑरामीन डाई का इस्तेमाल किया जा रहा है। तीनों रसायन लिवर, किडनी, हृदय के लिए अत्याधिक हानिकारक साबित होते हैं।

अगर आप इन सभी बीमारियों से दूर रहना चाहते है, तो आप अपने बचाव के लिए सब्जियों को क्लोरीन वाले पानी में ठीक से धोने के बाद ही इनका इस्तेमाल करें ताकि, धुलने के बाद इससे उसकी ऊपरी सतह पर जमा रंग काफी हद तक हट जाएगा|

इसे भी पढ़े: लंबी आयु चाहते हैं तो शुरू कर दें ‘एंटी एजिंग फूड्स’, यहाँ जानिए पूरी बात