राजनीतिक दलों के लिए आसान नहीं होगा इस बार फेसबुक पर प्रचार कराना

अभी तक राजनीतिक दल चुनाव के लिए फेसबुक पर आसानी से अपने विज्ञापन दे लेते थे लेकिन अब फेसबुक ने विज्ञापन के लिए कड़े कदम उठाय है | सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक ने अपनी विज्ञापन पॉलिसी में अगले साल मई में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए बड़ा बदलाव किया है। राजनीतिक पार्टियों द्वारा दिए जाने वाले विज्ञापनों के लिए कंपनी ने कुछ ऐसे नियम बना लिए है ताकि राजनीति दल आसानी से विज्ञापन नहीं दे पाए हैं।

अभी तक तो केवल विज्ञापन देने वालों को एक वेरिफिकेशन कोड फेसबुक पर भेज दिया जाता था | जिसके बाद कोड को वेरिफाई किया जाता था फिर विज्ञापन को भेज दिया जाता था।

फेसबुक ने 8 दिसंबर को सारे देश में कार्यरत विज्ञापन एजेंसियों और व्यक्तिगत विज्ञापनदाताओं को ई-मेल के द्वारा बताया है कि विज्ञापन देने वाले ऐसे लोगों का एड्रेस प्रूफ और आइडेंटी दें | जिससे भारत में स्थित टीम इस प्रूफ को जाकर के वेरिफाई करवा सके |

जानकारी के अनुसार, इस नियम के लागू होने से वेरीफाई कराने में 1 हफ्ते का समय लग सकता है | फेसबुक ने जानकारी दी है कि वि इस फैसले को लेकर पूरी तरह से गंभीर है ताकि चुनावों के समय फेसबुक कम्पनी में शांति बनी रहे अधिकतर चुनावों के भ्रमित करने वाले विज्ञापन भी भेजे जा सकते हैं | इसलिए यह कड़ा कदम उठाना आवश्यक हो गया था |

यह नियम सबसे पहले भारत में ही नहीं लागू किया गया इसके पहले फेसबुक अमेरिका, ब्राजील और युनाइटेड किंगडम में ये नियम लागू हो चुके हैं | भारत में इस समय लगभग 29.4 करोड़ लोग फेसबुक का इस्तेमाल कर रहें हैं |