अमेरिका और भारत के बीच 24 MH-60R पर सौदा, चीनी-पाकिस्तानी पनडुब्बियों पर रखीं जा सकेगी नज़र

भारत ने अमेरिकी कंपनी लॉकहीड मार्टिन से 90.5 करोड़ अमेरिकी डॉलर का सौदा करने के पश्चात अपनी नौसेना के लिए 24 आधुनिक पनडुब्बी-रोधी युद्धक हेलीकॉप्टर प्राप्त करने की योजना शुरू कर दिया है | भारतीय नौसेना के पास पहले से इंग्लैंड से वर्ष 1971 में प्राप्त किए गए पुराने दौर वाले सी किंग हेलीकॉप्टरों के जगह पर एमएच-60आर (MH-60R) हेलीकॉप्टर हिन्द महासागर के क्षेत्र में चीनी और पाकिस्तानी पनडुब्बियों और युद्धपोतों को खोजने और उन्हें परेशान करने के लिए लिया जा रहा है |

Air India में सरकार बेचेगी 100 प्रतिशत की हिस्सेदारी, इस दिन..

भारत और अमेरिका के बीच जिस सौदा के लिए समझौते पर हस्ताक्षर हुए हैं, वह  अमेरिकी डॉलर 2.6 अरब के उस पैकेज का आधा भी नहीं है, इसका ऐलान अप्रैल, 2019 में अमेरिकी विदेश विभाग द्वारा की गयी थी | इस सौदा में चॉपर, उनके सेंसरों और कम्युनिकेशन सिस्टम के साथ-साथ पोतों को निशाना बनाने में सक्षम हेलफायर मिसाइलों, एमके 54 टॉरपीडो तथा प्रिसिज़न स्ट्राइक रॉकेट सिस्टम समेत अनेक अस्त्र यन्त्र की कीमत भी इसी पैकेज के साथ जुड़ा है |

मोदी नहीं देंगे हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन तो क्या करेंगे अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड…

नॉर्वेजियन कंपनी कॉन्ग्सबर्ग डिफेंस एंड एयरोस्पेस के माध्यम से बनाई गयी नेवल स्ट्राइक मिसाइल (NSM) को भी इन हेलीकॉप्टरों के द्वारा नष्ट किया जा सकता है | किसी युद्धपोत को 185 किलोमीटर की रेंज से नेवल स्ट्राइक मिसाइल का प्रयोग करके उलझाया जा सकता है| भारत इस मूल पैकेज के तहत NSM ट्रेनिंग मिसाइल की भी आशा जाता रहा था, जिससे मिसाइल सिस्टम का सौदा भी आसानी से कर सके |

यस बैंक के ग्राहकों के लिए आ गई ज़बरदस्त खबर, मोदी…