प्रधानमंत्री मोदी ने किया एशिया के सबसे बड़ा सोलर प्लांट का उद्घाटन, साझा की ऑनलाइन तस्वीरे

मध्यप्रदेश के रीवा में स्थित विश्व की बड़ी सौर परियोजनाओं में शामिल रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर परियोजना को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुरुवार को राष्ट्र को समर्पित किया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी  वीडियो कॉन्फ्रेसिंग केमाध्यम से इस योजना का लोकार्पण किया गया। इस योजना को ऋण विश्व बैंक का ऋण प्रदेश शासन के बिना गारंटी के क्लीन टेक्नालॉजी फण्ड के तहत कम व्याज दरों पर दिया जाता है। इस परियोजना में यह मायने में भी  रखता है कि, इसमें प्रति यूनिट की क्रय मूल्य 2 रुपए 97 पैसे है, जिसे अभी तक की मिनमम क्रय मूल्य है। सोलर योजना को पयार्वरण की नज़र से देखे जाये तो रीवा सोलर योजना से प्रत्येक वर्ष 15.7 लाख टन कार्बन डाइऑक्साइड के उर्त्सजन को कम किया जायेगा, जो 2 करोड़ 60 लाख पेड़ों को लगाने के बराबर माना गया है।

अमेरिका और भारत के बीच 24 MH-60R पर सौदा

पीएम मोदी ने बताया कि रीवा ने वास्तव में इतिहास रचा है । मध्यप्रदेश में रीवा की पहचान मां नर्मदा के नाम से और सफेद बाघ से है। अब यहाँ पर एशिया के सबसे बड़े सोलर प्लांट प्रोजेक्ट का नाम भी जुड़ गया है। पीएम मोदी ने कहा कि इसके लिए मैं रीवा के जनता को, मध्य प्रदेश के जनता को, बहुत-बहुत बधाई, शुभकामनाएं दे रहा हूं । मध्यप्रदेश का ये सोलर प्लांट इस पूरे क्षेत्र में, इस दशक में ऊर्जा उत्पादन का एक विशाल केंद्र बनाने में मदद मिलेगा ।

Air India में सरकार बेचेगी 100 प्रतिशत की हिस्सेदारी

प्रधानमंत्री मोदी ने बताया है कि इस सोलर प्लांट से मध्य प्रदेश के जनता को, यहां के उद्योगों को तो बिजली मिलेगी और साथ – साथ दिल्ली में मेट्रो रेल तक को इसका फायदा मिलेगा। इसके अतरिक्त  रीवा जैसा शाजापुर, नीमच और छतरपुर में भी बड़े सोलर प्लांट पर काम चल रहे हैं । ये सभी प्रोजेक्ट जब पूर्ण हो जाएंगे, तो मध्य प्रदेश निश्चित तौर से सस्ती और साफ-सुथरी बिजली का मुख्या केंद्र बन सकता है। सोलर प्लांट का सबसे अधिक फायदा मध्य प्रदेश के गरीब, मध्यम वर्ग के परिवारों को मिलेगा, किसानों, आदिवासियों को होगा।

यस बैंक के ग्राहकों के लिए आ गई ज़बरदस्त खबर