इंदिरा एकादशी आज, पाप का नाश और पितरों की शांति के लिए करें ये उपाय

आज बुधवार 25 सितंबर को इंदिरा एकादशी मनाई जाएगी| इस एकादशी में अधिकतर लोग उपवास रखते हैं| वैसे तो यह एकादशी माह में  दो बार पड़ती है- शुक्ल एकादशी और कृष्ण एकादशी इन एकादशी में भगवान विष्णु या उनके अवतारों की पूजा होती है| आश्विन मास में एकादशी उपवास का विशेष महत्व माना जाता है| इस व्रत को करने से मन और शरीर दोनों ही संतुलित रहते हैं| इसके साथ ही जो लोग आश्विन मास की इंदिरा एकादशी का व्रत करते हैं उन लोगों को गंभीर रोगों से छुटकारा मिलता है| इसके अलावा यह व्रत पाप नाश और पितरों की शांति के लिए महत्वपूर्ण होता है| 

इसे भी पढ़े: 25 सितंबर को है इंदिरा एकादशी, जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और महत्‍व 

इस प्रकार करे पूजा उपासना

1.व्रत वाले दिन प्रातः उठकर स्नान करने के बाद पहले सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए| इसके बाद भगवान विष्णु के शालिग्राम स्वरुप की आराधना की जाती है|

2.पूजा के दौरान उनको पीले फूल, पंचामृत, तुलसी दल, फल भी अर्पित करना चाहिए|

3.इसके बाद भगवान का ध्यान किया जाता है और साथ ही उनके मन्त्रों का जप भी करना चाहिए| 

4.इस दिन फलाहार का दान किया जाता है, और गाय को भी फल आदि खिलाना चाहिए| 

5.इसके अगले दिन प्रातः निर्धन लोगों को भोजन कराया जाता है, साथ ही वस्त्र आदि का दान किया जाता है|

6.फिर स्वयं भोजन करके व्रत का समापन किया जाता है| 

7.इस दिन मन को ईश्वर में लगायें, क्रोध न करें, असत्य न बोलें|

पितरों के लिए इस दिन का महत्व 

1.पितृ पक्ष की एकादशी के दिन महाप्रयोग करके पितरों को मुक्ति दिलाई जाती है|

2.एकादशी के दिन उरद की दाल, उरद के बड़े और पूरियां आदि बनाये जाते है| इस दिन चावल का प्रयोग न करें|

3.इस दिन एक कंडा जलाकर उस पर एक पूरी में रखकर उरद की दाल और उरद के बड़े की आहुति दी जाती है|

4.पास मैं एक जल से भरा पात्र भी रखा जाता है| 

5.फिर भगवद्गीता का पाठ किया जाता है|

पितरों की आत्मा शांति के लिए 

1.पितरों को शान्ति देने के लिए  भगवान को फल और तुलसी दल अर्पित  किया जाता है|

2.इसके बाद भगवान के समक्ष भगवदगीता का पाठ होता है| 

3.इस दिन निर्धनों को फल का दान  किया जाता है|

4.इस दिन एक तुलसी का पौधा जरूर  लगाना चाहिए| 

5.किसी सार्वजनिक स्थान पर पीपल का पौधा भी लगाया जाता है|

इसे भी पढ़े: किस देवी – देवता को कौन से फूल करें अर्पण – पढ़े और जाने