16 जुलाई को लगेगा इस साल का दूसरा चन्द्रग्रहण | 149 साल बाद बना संयोग

0
101

बता अभी कुछ महीने पहले ही सूर्य ग्रहण पड़ा था, वहीं अब 16 जुलाई को साल का दूसरा चंद्र ग्रहण पड़ने वाला है| इस बार यह चंद्रग्रहण गुरु पूर्णिमा के दिन अर्थात 16 जुलाई को पड़ रहा है| बता दें कि, ऐसा दुर्लभ योग 149 साल बाद बन रहा है| इससे पहले साल 1870 में ऐसा दुर्लभ योग आया था| इससे पहले पहले पड़ने वाला चंद्र ग्रहण भारत नहीं पड़ा था, लेकिन यह चंद्रग्रहण भारत में भी नजर आएगा| इस बार यह ग्रहण पूरे तीन घंटे तक अपना प्रभाव बनाये रहेगा| यह चंद्र ग्रहण 16 जुलाई 2019 की रात लगभग 1.30 बजे से लग जाएगा और इसका मोक्ष 17 जुलाई की सुबह करीब 4.30 बजे हो पायेगा|

Advertisement

इसे भी पढ़े: देवशयनी एकादशी कब है, इसका महत्त्व और पूजा विधि

हिन्दू धर्म में ग्रहण का काफी महत्व होता है| हिंदू पंचांग की मानें तो इस बार चंद्र ग्रहण आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा को उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में लग रहा है| यह चंद्रग्रहण खंडग्रास चंद्र ग्रहण कहा जा रहा है| ग्रहण को लेकर कई तरह की मान्यताएं भी प्रचलित हैं|

ग्रहण से सम्बंधित कुछ नियम

1.ग्रहण के दौरान अन्न जल का सेवन बिलकुल भी नहीं करना चाहिए|

2.चंद्र ग्रहण पड़ने के समय  स्नान नहीं करना चाहिए, इसके अलावा  चन्द्रमा को बिलकुल भी न देखें क्योंकि इसका आँखों पर बुरा प्रभाव होता है |

3.वहीं आप ग्रहण के समय मंत्रो का जाप कर सकते  है|

ग्रहण पर लाभ प्राप्ति हेतु उपाय

1.यदि आपके घर में कोई लंबे समय से बीमार है, तो ग्रहण समाप्त हो जाने के बाद घी और खीर से हवन करें, इससे इस संसय का समाधान हो जाता है |

2.चंद्रमा कमजोर स्थिति में है तो ‘ऊं चंद्राय नम:’ मंत्र का जाप करने से लाभ प्राप्त होगा |

3.ग्रहण के दौरान प्राणायाम और व्यायाम करें और कुछ सोचे तो अच्छा सोचें |

4.चंद्रग्रहण समाप्त होने के बाद घर में शुद्धता के लिए गंगाजल का छिड़काव करें |

5.स्नान के बाद भगवान की मूर्तियों को स्नान करा कर उनकी पूजा करनी चाहिए |

इसे भी पढ़े: पूजा-पाठ / अगर भगवान को फूल चढ़ाए हो और वो मुरझा जाए तब क्या करना चाहिए आप भी जान लीजिये

Advertisement