मुरादाबाद लोकसभा चुनाव 2019 में क्यों है सबकी नजर, क्या रहा है इस सीट का अब तक चुनावी सफर

Moradabad Lok Sabha Election- 2019

मुरादाबाद उत्तर प्रदेश का एक नगर है, जो कि पीतल हस्तशिल्प के लिए प्रसिद्ध है। मुरादाबाद रामगंगा नदी के तट पर स्थित है| मुरादाबाद पीतल पर की गई हस्तशिल्प का निर्यात अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, जर्मनी और मध्य पूर्व एशिया देशों में भी किया जाता है। अमरोहा, गजरौला और तिगरी यहां के प्रमुख पयर्टन स्थलों में से हैं।

यह जिला बिजनौर जिले के उत्तर, बदायूं जिले के दक्षिण, रामपुर जिले के पूर्व और ज्योतिबा फुले नगर जिले के पश्चिम से घिरा हुआ है। लखनऊ से मुरादाबाद की दूरी 353.2 किलोमीटर  और दिल्ली से लगभग 211 किलोमीटर है ।

ये भी पढ़ें: प्रतापगढ़ लोकसभा चुनाव क्यों हो गया है दिलचस्प, किस पार्टी की दिख रही है यहाँ मजबूत पकड़

नोट: मुरादाबाद लोकसभा चुनाव तीसरे चरण के अंतर्गत 23 अप्रैल को आयोजित किये जायेंगे|

मुरादाबाद लोकसभा सीट का इतिहास (Moradabad Lok Sabha History)

मुरादाबाद संसदीय सीट के अंतर्गत पांच विधानसभा सीट हैं| मुरादाबाद लोकसभा सीट का इतिहास बताता है, कि यहां मुस्लिम वोटरों की संख्या भले ही हिंदुओं की तुलना में कम है, परन्तु मुस्लिम मतदाता हमेशा से निर्णायक की भूमिका में रहे हैं| 1952 में पहली बार लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी| वर्ष 1967 और 1971 में यह सीट भारतीय जनसंघ के खाते में गई, और 1977 में हुए लोकसभा चुनाव में चौधरी चरण सिंह की पार्टी भारतीय लोकदल ने जीत का परचम लहराया था| 1980 में एक बार फिर जनता दल ने बाजी मारी| वर्ष 1984 में देश में चली कांग्रेस की लहर में सीट फिर कांग्रेस के खाते में गई|

जिसके बाद 1989, 1991 में  मुरादाबाद सीट जनता दल के खाते में, और 1996, 1998 में समाजवादी पार्टी के खाते में गई| कांग्रेस से टूटकर बनी जगदंबिका पाल की अखिल भारतीय लोकतांत्रिक कांग्रेस ने 1999 चुनाव में इस सीट से जीत दर्ज की थी| वर्ष 2004 में इस सीट पर समाजवादी पार्टी का कब्जा हुआ, तो वहीं 2009 में पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद अजहरुद्दीन यहां से सांसद चुने गए| वर्ष  2014 में भारतीय जनता पार्टी पहली बार यहां से जीती थी|

मुरादाबाद लोकसभा सीट का समीकरण  

यूपी की मुरादाबाद लोकसभा सीट का इतिहास भी काफी दिलचस्प रहा है| मुरादाबाद लोकसभा सीट पर सत्ता की चाबी मुस्लिम वोटरों के हाथ में मानी जाती है, 1952 से 2014 तक के लोकसभा चुनाव पर नजर डालें तो मुरादाबाद से अधिकतर पार्टियों ने मुस्लिम प्रत्याशियों को ही चुनाव मैदान में उतारा है| यहां पर कुल 52.14% हिन्दू और 47.12% मुस्लिम जनसंख्या है| 2014 में इस सीट पर कुल 17 लाख से अधिक वोटर थे, इनमें 961962 पुरुष और 810084 महिला मतदाता थे| पिछले लोकसभा चुनाव में इस सीट पर कुल 63.7 फीसदी मतदान हुआ था, इनमें से 5207 वोट नोटा में डाले गए थे|

मुरादाबाद लोकसभा क्षेत्र में कुल पांच विधानसभा सीटें बढ़ापुर, कांठ, ठाकुरद्वारा, मुरादाबाद ग्रामीण और मुरादाबाद नगर शामिल हैं| इन पांच में मुरादाबाद ग्रामीण और ठाकुरद्वारा 2017 के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के खाते में गई थीं, जबकि बाकी तीन सीटों पर भारतीय जनता पार्टी ने कब्जा किया था|

2014 लोकसभा चुनाव के नतीजे (Result)

प्रत्याशी पार्टी प्राप्त मत
कुंवर सर्वेश कुमार भारतीय जनता पार्टी 485,224,  (43%)
डॉ. एसटी हसन समाजवादी पार्टी 397,720, (35.3%)
हाजी मोहम्मद याकूब बहुजन समाज पार्टी 160,945, (14.3%)

ये भी पढ़ें: बागपत लोकसभा सीट में क्या है जातीय समीकरण