NCERT की इतिहास की पुस्तक से 3 चैप्टर को हटाया गया, अब कम होगा छात्रों पर बोझ

अब सीबीएसई की 9वीं और 10वीं क्लास के अभ्यर्थियों के लिए बड़ी खुशखबरी है क्योंकि अब इन क्लास के बच्चों को पढ़ने के लिए थोड़ी मेहनत कम करनी पड़ेगी | बता दें कि NCERT की पुस्तक से 3 चैप्टरों को हटाया गया है | ये तीन चैप्टर कम से कम 70 पेज तक रहते थे | अब ये चैप्टर एनसीईआरटी के ऐप ई-पाठशाला पर उपलब्ध होंगे। पहले 9वीं और 10वीं की इतिहास की किताब में 8-8 चैप्टर दिए रहते थे लेकिन इस बार केवल 5 चैप्टर ही दिए रहेंगे |  

इसे भी पढ़े: विश्वविद्यालय की नयी रैंकिंग में कौन है आगे और किसने किसको पछाड़ा – जानिए सब कुछ यहाँ

एनसीईआरटी के निदेशक हृषिकेश सेनापति ने बताया, ‘जिन चैप्टरों को हटा दिया गया है, अगर कोई छात्र उन चैप्टरों को पढ़ना चाहता है तो वह उसे ऐप पर पढ़ सकेंगे। ये चैप्टर ऐप पर उपलब्ध होंगे। यह एक ऐसा प्लैटफॉर्म तैयार किया गया है जहां छात्र भारत के अतीत के बारे में जान सकेंगे और अपनी रुचि के मुताबिक अलग-अलग चीजें सीख सकेंगे।’ 

एनसीईआरटी में इतिहास की एक फैकल्टी ने बताया कि संस्थान को हर साल लोगों से सुझाव मिलते थे और उन सुझावों में सामाजिक विज्ञान की पुस्तक में इतिहास के बोझ को कम करने की मांग की जाती थी। इसी के साथ  बताया कि, ‘सामाजिक विज्ञान में इतिहास, राजनीतिक विज्ञान, भूगोल और अर्थशास्त्र आते हैं।

नौवीं क्लास में विज्ञान और मैथ्स में करीब 15-15 चैप्टर होते हैं जबकि सामाजिक विज्ञान में 24 होते थे। दसवीं क्लास में मैथ्स और विज्ञान में 16-16 चैप्टर होते हैं जबकि सामाजिक विज्ञान में 28 चैप्टर थे। अब इतिहास के कुछ चैप्टर हटाने के बाद नौवीं क्लास में सामाजिक विज्ञान में कम से कम 20 और दसवीं क्लास में 25 चैप्टर रह जाएंगे।’ 

इसे भी पढ़े:UP Police Result 2019: आ गया कॉन्स्टेबल परीक्षा का फाइनल परिणाम, यहाँ से ऐसे देख सकतें हैं आप

उन्होंने बताया, ‘इतिहास के आठ चैप्टर होते थे जिनमें से छात्रों को 5 पढ़ना होता था। लेकिन स्पष्टता नहीं होने की वजह से शिक्षक और छात्र इस बात को लेकर कन्फ्यूज हो जाते थे कि कौन सा चैप्टर सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। चैप्टर हटाने से यह कन्फ्यूजन खत्म हो जाएगा।’