ओवैसी ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की आलोचना, कही यह बात

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी नें मंगलवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत के उस बयान की आलोचना की जिसमें, उन्होंने मॉब लिंचिंग को भारत को बदनाम करने वाला बताया था| भागवत ने एक बयान में कहा था, कि लिंचिंग की उत्पत्ति पश्चिमी देशों में हुई है, और इसका इस्तेमाल भारत को बदनाम करने के लिए नहीं किया जाना चाहिए।

ये भी पढ़े: जम्मू-कश्मीर के अनंनतनाग में आतंकियों ने ग्रेनेड से किया हमला, डिप्टी कमिश्नर ऑफिस को बनाया निशाना  

नागपुर के रेशिमबाग मैदान में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विजयादशमी समारोह को संबोधित करते हुए भागवत ने कहा था कि लिंचिंग की उत्पत्ति पश्चिमी देशों में हुई है। इसे भारत पर नहीं थोपा जाना चाहिए। ये भारत को बदनाम करने की साजिश है। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि भीड़ हत्या के ‘पीड़ित भारतीय’ हैं, उन्होंने आरोप लगाया कि भागवत भीड़ हत्या रोकने के लिए कुछ नहीं कह रहे हैं|

ओवैसी ने ट्वीट किया कि गांधी और तबरेज़ अंसारी की हत्या जिस विचारधारा ने की उसकी तुलना में भारत की बड़ी बदनामी और कोई कुछ नहीं हो सकती| वहीं भागवत भीड़ हत्या रोकने के लिए नहीं कह रहे हैं| वह कह रहे हैं, कि इसे वो (लिंचिंग) मत कहो|

ये भी पढ़े: बांग्लादेश की PM शेख हसीना ने आज विदेश मंत्री जयशंकर से की मुलाकात