देश के अरबपतियों की संपत्ति इस साल हर दिन 2200 करोड़ रुपए बढ़ी – ऑक्सफैम की रिपोर्ट

0
111

वर्ष 2018 में भारतीय अरबपतियों की संपत्ति में प्रतिदन  2200 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई है,  इसके साथ ही देश के सबसे अधिक अमीर टॉप 1 फीसदी लोग और 39 फीसदी अमीर हो गए, जबकि देश के सबसे गरीब 50 फीसदी लोगों की संपत्ति मात्र 3 प्रतिशत की वृद्धि हुई| यह जानकारी ऑक्सफैम द्वारा दी गयी रिपोर्ट से प्राप्त हुई है|

Advertisement

ऑक्सफैम के अनुसार, वर्ष 2018 में वैश्विक स्तर पर धनी व्यक्तियों की संपत्ति में प्रतिदिन 12 फीसदी या 2.5 अरब डॉलर का इजाफा हुआ, जबकि दुनिया के सबसे गरीब वर्ग के लोगों की संपत्ति में 11 फीसदी की गिरावट हुई है| ऑक्सफेम ने कहा, कि 13.6 करोड़ भारतीय वर्ष 2004 से कर्ज में डूबे हैं|

ऑक्सफैम द्वारा दी गयी रिपोर्ट

1.ऑक्सफैम की रिपोर्ट अनुसार पिछले वर्ष देश के अरबपतियों की सूची में 18 नए नामों को सम्मिलित किया गया है, अब इनकी संख्या बढ़कर 119 हो गई है, इनकी कुल संपत्ति का आंकड़ा पहली बार 28 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच गया

2.देश के सबसे बड़े अमीर मुकेश अंबानी की आय 2.8 लाख करोड़ रुपए है, यह केंद्र और राज्य सरकारों के मेडिकल, जन स्वास्थ्य, और पानी आपूर्ति के राजस्व और खर्चों (2.08 लाख करोड़ रुपए) से अधिक है

3.रिपोर्ट में भारत के 13.6 करोड़ लोग ऐसे है, जो सबसे गरीब 10% आबादी में शामिल हैं, वह 2004 से निरंतर कर्ज में फंसे हुए हैं। ऑक्सफैम के अनुसार, गरीबों और अमीरों के बीच बढ़ता फर्क, गरीबी मिटाने के प्रयासों को खोखला कर रहा है, यह अंतर अर्थव्यवस्था को हानि पहुंचा रहा है

4.इस वर्ष वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में शामिल होने वाले राजनीतिज्ञ और कारोबारियों से ऑक्सफैम का कहना है, कि अमीर-गरीब के बीच बढ़ते अंतर से निपटने के लिए तुरंत कदम उठाने की आवश्यकता है।

5.ऑक्सफैम के इंटरनेशनल एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर विन्नी ब्यानयिमा के अनुसार, यह नैतिक रूप से अपमानजनक स्थिति है, क्योंकि कुछ अमीर भारतीयों की संपत्ति में निरंतर वृद्धि हो रही है, जबकि गरीब, निर्धन लोग खाने और बच्चों की दवा के पैसों के लिए भी संघर्ष कर रहे है।

Advertisement