प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना क्या है, कैसे मिलेगा लाभ जानिए मुख्य बातें

0
100

प्रधानमंत्री के नेतृत्व में वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने 7 फरवरी को पेश किये गये अपने अंतिम बजट में गरीब श्रमिकों को बड़ी राहत प्रदान की है | यह बजट लोकसभा चुनाव से पहले पेश कर दिया गया है |इसके अतिरिक्त  वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने असंगठित क्षेत्र के कामगारों को मेगा पेंशन की सुविधा देने का भी ऐलान किया है | आप भी जानिये इस योजना के लाभ और मुख्य बातें –

Advertisement

प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन ( पीएमएसवाईएस ) योजना से असंगठित क्षेत्रों के कर्मचारियों को बड़ी राहत प्राप्त होगी | इस योजना को मेगा पेंशन योजना के नाम से भी जाना जाता है | अब असंगठित क्षेत्रों के कामगारों को अधिक कठिनाइयों का सामना नहीं करना पड़ेगा, क्योंकि सरकार ने इस योजना अंतर्गत असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को रिटायरमेंट के बाद आजीवन काल के लिए 3000 रुपये मासिक पेंशन की सुविधा प्राप्त होगी |

ऐसे मिलेगा लाभ

जो भी श्रमिक इस योजना में शामिल होंगे, उन श्रमिकों को प्रत्येक महीने बैंक में एक छोटी रकम जमा करनी होगी । यदि किसी कामगार की उम्र 18 साल है, और वह इस योजना में शामिल होना चाहता है, तो उसे प्रत्येक माह  55 रुपये बैंक में जमा करने रहेंगे, उन्हें यह रकम 60 वर्ष की उम्र तक जमा करनी रहेगी, और वहीं अगर किसी श्रमिक की आयु 29 साल है, तो उस कामगार को 60 साल की आयु तक हर महीने 100 रुपये बैंक को देने रहेंगे,  जितने रूपये बैंक में श्रमिक जमा करेंगे सरकार भी उसे उतनी ही राशि प्रदान करेगी | 

इस योजना की मुख्य बातें  

1.प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना से असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को प्रत्येक महीने 3,000 की सुविधा पेंशन के रूप में दी जायेगी

2.इस योजना में 15 हजार का वेतन प्रति महीना प्राप्त करने वाले करीब 10 हजार कामगारों को इस योजना में शामिल किया जाएगा |

3.सरकार ने श्रमिकों को इस योजना का लाभ देने के लिए 500 करोड़ का बजट तय किया है

4.वित्त मंत्री पीयूष ने कामगारों की मृत्यु पर मुवावजा 2.5 लाख के बजाय 6 लाख रूपये तय किया है

5. 21 हजार तक वेतन प्राप्त करने वाले कामगारों को 7 हजार का बोनस दिया जाएगा

इस योजना में ये श्रमिक शामिल हो सकते हैं

इस पेंशन योजना में वही श्रमिक शामिल हो सकते हैं, जिन श्रमिकों की मासिक आमदनी 15 हजार रूपये से कम होगी | इस योजना के अंतर्गत असंगठित क्षेत्र के 10 करोड़ श्रमिकों को इस योजना में शामिल किया जाएगा |

Advertisement