पूजा पाठ और धार्मिक कार्यों में बांधते हैं रक्षा सूत्र – जानिए क्या है वजह और इसका महत्व

    0
    404

    पूजा पाठ और धार्मिक कार्यों में कलाई पर रक्षा सूत्र या मौली बाँधी जाती है, लेकिन इसका कारण क्या है इसके बारे में बहुत ही कम लोगों को जानकारी होगी | यह एक वैदिक परंपरा है, धार्मिक अनुष्ठान में शामिल होने पर संकल्प लेने के लिए इसे संकल्प सूत्र के रूप में बांधा जाता है | धार्मिक कार्यों के लिए किये गए धार्मिक अनुष्ठान में यह पंडित जी के द्वारा कलाई पर बांधा जाता है |

    Advertisement

    ये भी पढ़ें: Nirjala Ekadashi (निर्जला एकादशी) 2019: शुभ मुहूर्त, पूजा-विधि और महत्व जानिए

    महत्व

    पौराणिक कथा में भगवान विष्णु ने वामन के रूप में अवतार लिया था | उन्होंने राजा बलि की अमरता के लिए उनकी कलाई पर रक्षा सूत्र बांधा था | इसके बाद हिन्दू धर्म में इस संकल्प सूत्र को रक्षा सूत्र के तौर पर बांधा जाता है | माता लक्ष्मी ने अपने पति की रक्षा के लिए राजा बलि को रक्षा सूत्र बांधा था जिसके बाद इसे रक्षा बंधन का भी प्रतीक भी माना जाता है |

    रक्षा सूत्र बांधने का मंत्र

    येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबल:।

    तेन त्वामनुबध्नामि रक्षे मा चल मा चल।।

    त्रिदेव और त्रिदेवियों से जुड़ी है मौली

    मौली तीन कच्चे धागे की बनायी जाती है | इसे पुरुष और कन्या अपनी दायीं कलाई पर बांधती है तथा शादीशुदा महिलाएं इसे बायीं कलाई पर बांधती है | प्रत्येक की कलाई पर तीन रेखाएं होती हैं | इन्हें मणिबंध के नाम से जाना जाता है |

    यह रेखाएं ब्रह्मा, विष्णु और महेश का प्रतीक मानी जाती है | इन तीनों रेखाओं में शक्ति, सरस्वती और लक्ष्मी का वास माना जाता है | पौराणिक मान्यताओं के अनुसार जब मंत्र पढ़कर मौली बाँधी जाती है, तो वह त्रिदेव और त्रिदेवियों को समर्पित हो जाता है | इसके बाद त्रिदेव और त्रिदेवियां आपकी रक्षा करते है |

    ये भी पढ़ें: Dhumavati Jayanti 2019: आज है पार्वती मां का उग्र स्वरूप का धूमावती पूजन

    Advertisement