विंग कमांडर अभिनंदन को दिया जायेगा ये पहला “अहिंसा पुरस्कार”

58 घंटे पाकिस्तान की कैद में रहने वाले भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन को पहला ‘भगवान महावीर अहिंसा पुरस्कार’ दिया जाएगा। 3 मार्च को संगठन के एक पदाधिकारी ने जानकारी दी है कि पायलट अभिनन्दन ऐसे पुरुष हैं जिन्हें अखिल भारतीय दिगंबर जैन महासमिति द्वारा शुरू किए गए पहला ‘भगवान महावीर अहिंसा पुरस्कार’ से सम्मानित किया जाएगा |

संगठन की महाराष्ट्र इकाई के संयोजक पारस लोहाड़े से प्राप्त जानकारी के मुताबिक,लड़ाकू विमान के पायलट अभिनन्दन को संगठन के अध्यक्ष मणींद्र जैन पुरस्कार से सम्मानित करने का ऐलान किया गया है | लोहाड़े ने बताया कि इस महान पायलट को वर्ष 2019 में बनाये गये इस पुरस्कार के तहत 2.51 लाख रुपये का नकद धनराशि से सम्मानित किया जाएगा और इसके साथ ही एक स्मृति चिन्ह और एक प्रशस्ति पत्र भी तोहफे के रूप में दिया जाएगा। इस विंग कमांडर को 17 अप्रैल को महावीर जयंती के अवसर पर यह पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। 

जानकारी दें दे कि मिग-21 बाइसन के पायलट अभिनंदन ने 27 फरवरी को पाकिस्तानियों की तरफ से भेजे गये विमानों में से एफ-16 विमान को गिरा दिया था और वह स्वयं को बचाने में पाकिस्तान के सीमा के अन्दर गिर गये थे, जिसके बाद उन्हें पाकिस्तान में कैद कर लिया गया था |  इसके बाद अंतरराष्ट्रीय दबाव के चलते पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को भारतीय पायलट को रिहा करना पड़ा | विंग पायलट अभिनन्दन 1 मार्च को अपने देश भारत वापस आये हैं | इनके साहस पर पूरे भारत को गर्व है इस साहसी पायलट को सारा देश सलाम कर रहा है |