मात्र एक घंटे में 50,000 पेड़ लगाने का गिनीज़ विश्व रिकॉर्ड बना चुका है ये देश, जानिये इस देश की ख़ास बाते

0
158

भारत और चीन से घिरा भूटान एक छोटा देश है| हिमालय की प्राकृतिक खू़बसूरती, शांति और सुकून देने वाले बौद्ध मठ भूटान की ख़ासियत हैं, इसलिए इस छोटे से देश में घूमने के लिए प्रतिवर्ष लाखों सैलानी आते हैं| भूटान में पेड़ लगाना लोकप्रिय है| यहां वह लंबे जीवन, सुंदरता और सहानुभूति के प्रतीक हैं भूटान एक ऐसा देश है, जहाँ पर मात्र एक घंटे में 50,000 पेड़ लगाए जानें का रिकॉर्ड बनाया हैं| यह देश पेड़ लगाने के मामले में गिनीज विश्व रिकॉर्ड बना चुका है,  तो आप भी जानिये इस देश की ख़ास बाते|

Advertisement

1.सभी देशों से अलग 

भूटान और ब्रिटेन के बीच कुछ अच्छे संबंध नहीं है| बता दें, कि भूटान एक ऐसा देश है जिसने अपनी संस्कृति को बचाने के लिए सदियों तक विश्व से संबंध बनाने के मामले में दूर रहा है|यहां 1999 में ही इंटरनेट और टेलीविजन के लिए इजाजत दी गई थी और 1970 में पहली बार किसी विदेशी पर्यटक को यहां आने दिया गया था|  

इसे भी पढ़े: ‘एक देश एक राशन कार्ड’: अब मोदी सरकार कर रही ‘One Nation One Ration Card’ पर विचार, जल्द ही सामने आएगी सारी तस्वीर

2. चीज़ें तेज़ी से बदल रही हैं

भूटान में हर एक चीज में तेजी से बदलाव हो रहा है| भूटान की राजधानी थिम्पू में अब स्मार्टफ़ोन और कराओके बार आम साधन हो गए हैं| यहाँ के लोग सोशल मीडिया के बारे में भी पूरी तरह से जानते है| सोशल मीडिया से ही यहाँ पर फैशन की शुरुवात हुई है, साथ ही राजनीति के मामले में भी आगे आया है|

3. अंतरराष्ट्रीय ट्रेंड्स में सबसे आगे

कई लिहाज से भूटान अंतरराष्ट्रीय ट्रेंड्स में सबसे आगे रहा है| यहाँ पर 1999 से ही प्लास्टिक की थैलियां प्रतिबंधित हैं और तंबाकू भी ग़ैरक़ानूनी मानी जाती है|  

4. पर्यटन का केंद्र

यहाँ पर कमाल के प्राकृतिक दृश्य और शानदार संस्कृति हैं, इसके बावजूद भी यह देश बड़े पैमाने पर पर्यटन से बचा रहा है| यहाँ की सरकार पर्यटकों की संख्या को सीमित रखती है, और दक्षिण एशिया के बाहर से आने वालों से 250 डॉलर प्रतिदिन के हिसाब से पैसा वसूलती है|

5. आर्थिक पैमाने

भूटान जीवन के स्तर को सकल राष्ट्रीय ख़ुशी (जीएनएच) से नापता है| सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी)  सरकार का कहना है कि इसमें भौतिक और मानसिक रूप से ठीक होने के बीच संतुलन कायम किया जाता है| इसकी रेटिंग को सकल राष्ट्रीय ख़ुशी केंद्र देखता है, जिसकी ज़िम्मेदारी एक ऐसे व्यक्ति के पास है जो विपरीत पक्ष को भी अच्छे से समझता है|

इसे भी पढ़े: अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो से मिले PM नरेंद्र मोदी – जानिए इससे जुडी अहम बातें 

Advertisement