आजमगढ़ लोकसभा सीट पर अब तक का क्या रहा इतिहास – किनके बीच है इस बार ज़बरदस्त मुकाबला – जाने यहाँ

Azamgadh Lok Sabha Election Date -12 May 2019

आजमगढ़ लोकसभा सीट पर अखिलेश यादव के चुनाव लड़ने से यह सीट बहुत ही हॉट बन गयी है| सियासी गणित बहुत ही तेजी के साथ बदल रहा है| लोकसभा चुनाव 2019 में सपा, बसपा और रालोद साथ है| जिससे भाजपा के लिए यहाँ पर जीत दर्ज करना मुश्किल लग रहा है| पिछले चुनाव में यहाँ से मुलायम सिंह सांसद थे, इन्हें भी केवल 19 प्रतिशत वोट मिले थे, जिससे पता चलता है कि सपा का किला भी कमजोर हो रहा है| गठबंधन होने से इस किले को थोड़ी मजबूती अवश्य हुई है, लेकिन चुनाव परिणाम में पूरी बात की जानकारी होगी, कि किला मजबूत हुआ यह कमजोर|

ये भी पढ़ें: आजमगढ़ लोकसभा सीट क्यों बन गई है इस बार दिलचस्प – समझिये यहाँ के चुनावी समीकरण को

आजमगढ़ लोकसभा ज़बरदस्त मुकाबला

आजमगढ़ सीट से अखिलेश यादव चुनाव मैदान में है जिससे भाजपा ने अखिलेश को टक्कर देने के लिए बीते दिनों बीजेपी में शामिल हुए भोजपुरी सिने स्टार दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ को टिकट दिया है| यदि समीकरणों की बात करें तो निरहुआ के लिए जीत की राह आसान नहीं होगी |

आजमगढ़ मतदाता संख्या (Number Of Voters)

कुल मतदाता – 34,51,624

मतदाता (पुरुष) – 18,94,292

मतदाता (महिला) – 15,57,231

मतदाता (तृतीय लिंग) – 101

आजमगढ़ लोकसभा सीट पर 1952 से 2014 तक का इतिहास (History)

1952 अलगू राय शास्त्री (कांग्रेस)
1957 कालिका सिंह (कांग्रेस)
1962 राम हरख यादव (कांग्रेस)
1967 चंद्रजीत यादव (कांग्रेस)
1971 चंद्रजीत यादव (कांग्रेस)
1977 राम नरेश यादव (जनता पार्टी)
1978 मोहसिना किदवई (कांग्रेस-आई)
1980 चंद्रजीत यादव (जनता दल-एस)
1984 संतोष सिंह (कांग्रेस)
1989 राम कृपाल सिंह (बीएसपी)
1991 चंद्रजीत यादव (जनता दल)
1996 रमाकांत यादव (एसपी)
1998 अकबर अहमद (बीएसपी)
1999 रमाकांत यादव (एसपी)
2004 रमाकांत यादव (बीएसपी)
2008 अकबर अहमद (बीएसपी)
2009 रमाकांत यादव (बीजेपी)
2014 मुलायम सिंह यादव (एसपी)

ये भी पढ़ें: मिर्जापुर लोकसभा का जातीय समीकरण – किस पार्टी पर पड़ेगा भारी, किसके लिए है फायदेमंद