आजमगढ़ लोकसभा सीट क्यों बन गई है इस बार दिलचस्प – समझिये यहाँ के चुनावी समीकरण को

Azamgadh Lok Sabha Election- 2019

आजमगढ़ लोकसभा सीट पूर्वांचल की प्रतिष्ठित सीटों में से है| लोकसभा चुनाव 2019 में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्य मंत्री इस सीट पर चुनाव लड़ने जा रहे है| पिछले चुनाव में त्कालीन एसपी अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने यहाँ से चुनाव लड़े थे| पिछले चुनाव में मोदी लहर से सभी दलों को बहुत ही नुकसान हुआ था, लेकिन मुलायम सिंह यादव ने इसके बावजूद यहाँ से जीत दर्ज की थी| लोकसभा चुनाव 2019 में अखिलेश यादव के ऊपर पार्टी और पिता की प्रतिष्ठा बचाने की जिम्मेदारी है|

ये भी पढ़ें:आजमगढ़ लोकसभा सीट पर अब तक का क्या रहा इतिहास – किनके बीच है इस बार ज़बरदस्त मुकाबला – जाने यहाँ

नोट: आजमगढ़ लोकसभा चुनाव 12 मई 2019 को निर्वाचन आयोग द्वारा आयोजित कराये जायेंगे|

ये भी पढ़ें: रामपुर लोकसभा सीट पर कौन सी पार्टी रही है भारी, कितने है यहाँ पर वोटर्स

 चुनावी समीकरण (Electoral equation)

16वीं लोकसभा में समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव आजमगढ़ से चुनाव जीते थे, परन्तु उन्हें केवल 19 प्रतिशत वोट मिले थे| भाजपा के रमाकांत यादव को 16 प्रतिशत मत प्राप्त हुए थे|

रमाकांत यादव मुलायम के शागिर्द रह चुके थे| बसपा के शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली ने भी 15 प्रतिशत मत पाकर लड़ाई को रोमांचक बना दिया था| इस बार सपा-बसपा और रालोद ने गठबंधन किया हुआ है, जिससे यहाँ का चुनाव सपा के पक्ष में जाता हुआ दिख रहा है| भाजपा यहां बसपा के परंपरागत मतदाताओं के बीच बिखराव के लिए जुगत लगा रही है| आजमगढ़ लोकसभा सीट मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र है|

ये भी पढ़ें: झांसी लोकसभा सीट पर अब तक के क्या रहे है आंकड़े, इस सीट पर कितने है मतदाता