Election 2019 Result: चुनाव नतीजों से एक दिन पहले अमित शाह ने EVM पर सवाल उठाने वालों से मांगे ये जवाब

0
317

Election 2019:Election 2019 Result: लोकसभा चुनाव के आख़िरी चरण के मतदान की प्रक्रिया का समापन हो जाने के बाद  सभी विपक्षी पार्टियां ईवीएम को लेकर सवाल खड़े कर रहीं हैं| जिस पर पलटवार करते हुए परिणाम से ठीक पहले 22 मई को भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने सवाल खड़े करने वाली पार्टियों से यह जवाब मांगे है|

Advertisement

इसे भी पढ़े: Election Results 2019: राहुल गांधी ने नतीजों से पहले कांग्रेस कार्यकर्ताओं से कहा – सतर्क और चौकन्ना रहें, डरे नहीं

अमित शाह ने ट्वीट करते हुए कहा, कि ईवीएम का विरोध देश की जनता के जनादेश का अनादर है| हार से बौखलाई यह 22 पार्टियां देश की लोकतांत्रिक प्रक्रिया पर सवालिया निशान उठा कर विश्व में देश और अपने लोकतंत्र की छवि को धूमिल कर रही है| इसी के साथ कहा, कि EVM पर विपक्ष द्वारा उठाए जा रहे प्रश्न सिर्फ भ्रान्ति फैलाने का प्रयास है, जिससे प्रभावित हुए बिना हम सबको हमारे प्रजातांत्रिक संस्थानों को और मजबूत करने का प्रयास करना चाहिए| मैं इन सभी पार्टियों से कुछ प्रश्न पूछना चाहता हूं|  

सवाल – EVM की विश्वसनीयता पर प्रश्न उठाने वाली इन अधिकांश विपक्षी पार्टियों ने कभी न कभी EVM द्वारा हुए चुनावों में विजय प्राप्त की है. यदि उन्हें EVM पर विश्वास नहीं है तो इन दलों ने चुनाव जीतने पर सत्ता के सूत्र को क्यों सम्भाला ?

सवाल- देश की सर्वोच्च अदालत ने तीन से ज्यादा PIL का संज्ञान लेने के बाद चुनावी प्रक्रिया को अंतिम स्वरूप दिया है. जिसमें की हर विधानसभा क्षेत्र में पांच VVPAT को गिनने का आदेश दिया है. तो क्या आप लोग सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर भी प्रश्नचिन्ह लगा रहे है ?

सवाल- मतगणना के सिर्फ दो दिन पूर्व 22 विपक्षी दलों द्वारा चुनावी प्रक्रिया में परिवर्तन की मांग पुर्णतः असंवैधानिक है क्योंकि इस तरह का कोई भी निर्णय सभी दलों की सर्वसम्मति के बिना सम्भव नहीं है |

सवाल- विपक्ष ने EVM के विषय पर हंगामा छः चरणों का मतदान समाप्त होने के बाद शुरू किया। एक्जिट पोल के बाद यह और तीव्र हो गया| एक्जिट पोल EVM के आधार पर नहीं बल्कि मतदाता से प्रश्न पूछ कर किया जाता है। अतः एक्जिट पोल के आधार पर आप EVM की विश्वसनीयता पर कैसे प्रश्न उठा सकते है?

सवाल- EVM में गड़बड़ी के विषय पर प्रोएक्टिव कदम उठाते हुए चुनाव आयोग ने सार्वजनिक रूप से चुनौती देकर इसके प्रदर्शन का आमंत्रण दिया था. परन्तु उस चुनौती को किसी भी विपक्षी दल ने स्वीकार नहीं किया.

सवाल- इसके बाद चुनाव आयोग ने EVM को VVPAT से जोड़ कर चुनावी प्रक्रिया को और पारदर्शी किया. VVPAT प्रक्रिया के आने के बाद मतदाता मत देने के बाद देख सकता है कि उसका मत किस पार्टी को रजिस्टर हुआ. प्रक्रिया के इतने पारदर्शी होने के बाद इस पर प्रश्न उठाना कितना उचित है ?

सवाल- कुछ विपक्षी दल चुनाव परिणाम अनुकूल न आने पर ‘हथियार उठाने’ और “खून की नदिया बहाने“ जैसे आपत्तिजनक बयान दे रहे है| विपक्ष बताये कि ऐसे हिंसात्मक और अलोकतांत्रिक बयान के द्वारा वह किसे चुनौती दे रहा है?

इसे भी पढ़े: चुनाव नतीजों से ठीक पहले स्मृति ईरानी ने जनता के लिए कहा – राष्ट्र का हर नागरिक उनके साथ खड़ा रहा

Advertisement