16 जुलाई को मनाई जाएगी गुरु पूर्णिमा साथ ही होगा चंद्र ग्रहण, जानिए शुभ मुहूर्त समय

0
65

हिन्‍दू धर्म में गुरु पूर्णिमा का विशेष महत्‍व होता है| यह त्यौहार सभी हिन्दू धर्म के लोग बहुत ही धूमधाम के साथ मनाते हैं| वहीं मान्‍यता है कि, इसी दिन आदिगुरु महाभारत के रचयिता और चार वेदों के व्‍याख्‍याता महर्षि कृष्‍ण द्वैपायन व्‍यास यानी कि महर्षि वेद व्‍यास का जन्‍म हुआ था| वे संस्कृत के महान विद्वान थे, उन्होंने महाभारत जैसा महाकाव्य लिखा है|

Advertisement

इसे भी पढ़े: पूजा-पाठ / अगर भगवान को फूल चढ़ाए हो और वो मुरझा जाए तब क्या करना चाहिए आप भी जान लीजिये

इसी के 18वें अध्याय में भगवान श्री कृष्ण ने गीता का उपदेश दिया हैं| महर्षि वेदव्यास सभी 18 पुराणों का रचयिता भी कहे जाते है| इसी वजह से इनका नाम वेदव्यास पड़ गया था| वेदव्यास आदिगुरु भी कहे जाते है, इसलिए गुरु पूर्णिमा व्यास पूर्णिमा के नाम से भी प्रसिद्द है | जानकारी देते हुए बता दें, कि इस बार गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण भी लग रहा है|

इस दिन है गुरु पूर्णिमा  

हिन्‍दू कैलेंडर के मुताबिक, आषाढ़ शुक्‍ल पक्ष की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा कहते हैं,वहीं इस बार गुरु पूर्णिमा गुरु पूर्णिमा 16 जुलाई मनाई जाएगी|

 शुभ मुहूर्त

गुरु पूर्णिमा का महत्‍व गुरु पूर्णिमा प्रारंभ: 15 जुलाई 2019 को रात 01 बजकर 48 मिनट से 

गुरु पूर्णिमा तिथि सामप्‍त: 16 जुलाई 2019 की रात 03 बजकर 07 मिनट तक

गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु की पूजा की जाती है| इस दिन जो लोग पूरे विधि-विधान के साथ गुरु की पूजा करते हैं, उनके जीवन में आने वाले सभी कष्ट दूर हो जाते हैं और गुरु हमेशा उनपर अपनी कृपा बनाये रखते हैं| 

पूजा विधि

गुरु पूर्णिमा के दिन सभी भक्तों को सुबह उठकर सबसे पहले घर की साफ-सफाई करनी चाहिए| इसके बाद सुबह ही स्‍नान आदि से निवृत करनें के पश्चात घर के मंदिर में किसी चौकी पर सफेद कपड़ा बिछाकर उस पर 12-12 रेखाएं बनाकर व्यास-पीठ बनानी चाहिए |इसके बाद इस मंत्र का उच्‍चारण करना चाहिएए – ‘गुरुपरंपरासिद्धयर्थं व्यासपूजां करिष्ये’ | पूजा के बाद अपने गुरु या उनके फोटो की पूजा करनी चाहिए| अगर गुरु सामने ही हैं, तो सबसे पहले उनके चरण धोने चाहिए  और फिर उन्‍हें तिलक लगाएं और फूल अर्पण करें फिर भोग लगाना चाहिए|

गुरु पूर्णिमा के दिन पड़ रहा चंद्र ग्रहण

इस बार गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण भी लग रहा है| यह ग्रहण 1 बजकर 31 मिनट पर शुरू होकर 17 जुलाई की सुबह 4 बजकर 30 मिनट पर समाप्‍त होगा| इस बार यह चंद्र ग्रहण  पूरे देश में लगेगा|

इसे भी पढ़े: गणेशजी को ही दूर्वा क्यों और कैसे चढ़ाया जाता हैं 

Advertisement