अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को दे इंश्योरेंस की सुरक्षा, महिलाएं इंश्योरेंस कवर में क्यों है पीछे ?

0
84

एक महिला का जीवन कई बलिदानों के साथ जुड़ा रहता है, पुरुष प्रधान समाज सदैव उसका विरोध करता रहता है | अधिकांश पुरुष वर्ग महिलाओं को शादी करने और बच्चे पैदा करने के नजरिये से ही देखते है, जिससे उनकी मानसिकता का पता चलता है, इन विषम परिस्थितियों में भी महिलाओं ने अदम्य साहस का परिचय दिया है | संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी महिलाओं के सम्मान में 8 मार्च को अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस मानाने का निर्णय लिया था तब से आज तक प्रत्येक वर्ष इस दिन महिलाओं के सम्मान में कार्यक्रम आयोजित किये जाते है |

Advertisement

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को दे इंश्योरेंस की सुरक्षा

इस दिन सभी लोग महिलाओं के सम्मान में उन्हें इंश्योरेंस की सुरक्षा प्रदान कर सकते है, जिससे उन्हें भी आपके अपनेपन का अहसास हो सके | जो महिलाएं घर में एक गृहणी के रूप में कार्य करती है, वह लाइफ इंश्योरेंस खरीदने में दिलचस्पी नहीं लेती हैं | एक रिपोर्ट मनीमूड 2019 के अनुसार महिलाएं पुरुषों की तुलना में 20 प्रतिशत अधिक होम लोन लेती है | एक अन्य सर्वे के अनुसार यह बात देखी गयी है कि 68 प्रतिशत पुरुषों की तुलना में सिर्फ 59 प्रतिशत महिलायें ही लाइफ इंश्योरेंस  पॉलिसियां खरीदती है |

ये भी पढ़ें: लखनऊः 6 मार्च से शुरू होगी महिलाओं के लिए पिंक बसें, रूट हुआ तय

परिवार पर निवेश

लगभग सभी महिलाएं अपने परिवार के लिए इमरजेंसी फंड तैयार करने में एक मुख्य भूमिका निभाती है | यह महिलाएं इंश्योरेंस प्लान खरीदने की तुलना में प्रॉपर्टी में निवेश करने और अपने बच्चों के लिए सेविंग करने में ज्यादा दिलचस्पी लेती हैं | एक परिवार पर तब सबसे बुरा असर पड़ता है, जब किसी महिला के स्वास्थ्य में गिरावट आती है, उस समय घर का सारा बजट बिगड़ जाता है और घर में भी दैनिक कार्यों में कई कठिनाईओं का सामना करना पड़ता है | यदि महिला ने एक हेल्थ इंश्योरेंस प्लान ले रखा होता है, तो इन सभी समस्याओं से बचा जा सकता है |

कामकाजी महिलाओं द्वारा कंपनी द्वारा प्रदान किए गए इंश्योरेंस पर निर्भरता

जो महिलाएं रोजगार से जुड़ी हुई है, वह अधिकतर कंपनी द्वारा प्रदान किए गए इंश्योरेंस पर ही निर्भर रहती है | वह कंपनी के इंश्योरेंस प्लान के नुकसान को नहीं समझती हैं | वह कंपनी के इंश्योरेंस पॉलिसी पर अधिक ध्यान भी नहीं देती है, जिससे उन्हें भारी हानि का सामना करना पड़ सकता है | महिलाओं को यह जरूर सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके पास सही माध्यमों से ख़रीदा गया पर्सनल हेल्थ कवरेज हो |

ये भी पढ़ें: जानिए महिलाओं के लिए सबसे बेस्ट जॉब कौन सी हैं – 5 बेस्ट सरकारी…

महिलाएं इंश्योरेंस के लिए क्या कर सकती है ?

महिलाएं कॉम्प्रिहेंसिव कवर (क्रिटिकल ईलनेस, एक्सीडेंटल कवरेज) वाला इंडिविजुअल हेल्थ इंश्योरेंस प्लान खरीद सकती हैं, काम-काजी महिलाएं और साधारण गृहणी महिलाओं को अपने फाइनेंशियल भविष्य को सुरक्षित करने के लिए दूसरों पर निर्भर नहीं रहना चाहिए | अभी तक देश में फाइनेंशियल साक्षरता बहुत कम है, इसलिए महिलाएं फाइनेंशियल के विषय में अधिक जानकारी नहीं रख पाती है | शिक्षा के साथ सभी को फाइनेंशियल नॉलेज देना चाहिए | जो महिला नौकरी नहीं करती है उन्हें तब भी हेल्थ इंश्योरेंस कवरेज अवश्य लेना चाहिए |

ये भी पढ़ें: ब्रिटेन में विवादित नियम के खिलाफ यूं जीती लड़ाई इस भारतीय महिला ने

Advertisement