मानसी जोशी ने एक पैर पर खेलकर रचा इतिहास, जीता गोल्ड मेडल

BWF Para-Badminton World Championship 2019:  पैरा वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में एक भारतीय खिलाड़ी ने एक पैर पर खेलकर इतिहास रचते हुए गोल्ड मैडल जीता| बता दे कि, मानसी जोशी ने एक पैर पर खलेकर देश दुनिया का नाम रौशन किया है| वहीं मंगलवार 27 अगस्त को खेलमंत्री किरन रिजिजू ने इन खिलाड़ियों को सम्मानित किया। वही पहली बार ऐसा हुआ है कि, पैरा बैडमिंटन खिलाड़ियों को पहली बार नकद धनराशि दी गई, इसके लिए नियम भी बदले गए। 

इसे भी पढ़े: चानू ने की शानदार वापसी और जीत लिया स्वर्ण पदक

28 अगस्त सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इन खिलाड़ियों को बधाई दी। पीएम ने ट्वीट कर कहा कि – ‘130 करोड़ भारतीयों को पैरा बैडमिंटन दल पर बहुत गर्व है। इस दल ने बीडब्ल्यूएफ पैरा वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप 2019 में 12 पदक जीता|” इसी के साथ मोदी जी ने कहा कि, पूरी टीम को बहुत-बहुत बधाई जिनकी कामयाबी काफी खुशी देने वाली और प्रेरणादायी है। इनमें से हर खिलाड़ी असाधारण है।’

बचपन से ही बैडमिंटन में दिलचस्पी रखने वाली महाराष्ट्र की रहने वालीं इस खिलाड़ी ने महिला एकल में गोल्ड मेडल जीता। बता दें कि, उनके पिता मुंबई के भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर में काम करते थे, वहीं मानसी ने खेल खेलना शुरू कर दिया और देखते ही देखते उनके खेल में निखार आने लगा और स्कूल, जिला स्तर पर उन्होंने खिताब  अपने नाम करने लगी, लेकिन 2011 में उनकी जिंदगी में पूरी तरह से बदलाव आ गया क्योंकि उनके साथ एक सड़क दुर्घटना हो गई जिसके चलते उन्हें दो महीने के आस-पास तक अस्पताल में इलाज के लिए रहना पड़ा| 

Really happy to share with you that I won a Gold in The BWF Para Badminton World Championships 2019. I worked really…

Manasi Joshi ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಭಾನುವಾರ, ಆಗಸ್ಟ್ 25, 2019

वहीं अब मिली जीत पर खुशी जाहिर करते हुए मानसी ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा- ‘मैंने इसके लिए कड़ी मेहनत की है और मैं बहुत खुश हूं कि इसके लिए बहाया गया पसीना और मेहनत रंग लाई है। यह वर्ल्ड चैंपियनशिप में पहला गोल्ड मेडल है।’ इसी के साथ मानसी ने इसके लिए गोपचंद अकादमी के अपने कोचिंग स्टाफ का भी शुक्रिया अदा किया। इसके साथ ही उन्होंने गोपीचंद का भी शुक्रिया अदा करते हुए लिखा- ‘गोपी सर मेरे हर मैच के लिए मौजूद रहने के लिए बहुत-बहुत शुक्रिया।’ 

इसे भी पढ़े: एशियन एथलेटिक्स / इस बार हेप्टाथलॉन में स्वप्ना को सिल्वर पे करना पड़ा संतोष, वही संजीवनी को ब्रॉन्ज मेडल