मिशन चंद्रयान 2 पर खर्च हुए इतने करोड़ रुपये, इससे जुड़ी 8 बड़ी बातें यहाँ जानें

0
285

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन का दूसरा मून मिशन चंद्रयान -2 आज 22 जुलाई को देश के सबसे ताकतवर बाहुबली रॉकेट GSLV-MK3 से लॉन्च किया जाएगा| चेन्नई से लगभग 100 किलोमीटर दूर सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र में दूसरे लांच पैड से चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण अपराह्न दो बजकर 43 मिनट पर किया जायेगा| इस मिशन की लागत लगभग 978 करोड़ रुपये है|

Advertisement

ये भी पढ़े: केंद्र सरकार ने कई राज्यों के राज्यपालों का किया तबादला, आनंदीबेन पटेल बनी यूपी की नईं राज्यपाल

15 जुलाई को इसरो के वैज्ञानिकों ने मिशन के प्रक्षेपण से 56 मिनट 24 सेकंड पहले मिशन नियंत्रण कक्ष से घोषणा के बाद रात 1.55 बजे इसे रोक दिया था, क्योंकि वैज्ञानिकों का कहना था, कि जल्दबाजी में कदम उठाने से बड़ा हादसा होनें की संभावना थी|  सकता था|

चंद्रयान-2  से जुड़ी अहम जानकारियां

1.जीएसएलवी को ‘बाहुबली’ के नाम से भी पुकारा जाता है| यह रॉकेट 44 मीटर लंबा और 640 टन वजनी है, इसमें 3.8 टन का चंद्रयान रखा गया है|

2.तीन दिन पहले ही इसे प्रक्षेपित किये जाने की नई तिथि की घोषणा की गई थी| इसरो ने घोषणा की कि रविवार की शाम छह बजकर 43 मिनट पर प्रक्षेपण के लिए 20 घंटे की उल्टी गिनती शुरू हो गई|

3.इसरो के अनुसार ‘चंद्रयान-2′ चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में उतरेगा, जहां वह इसके अनछुए पहलुओं को जानने का प्रयास करेगा

4. इसरो ने आज से 11 साल पहले अपने पहले सफल चंद्र मिशन ‘चंद्रयान-1′ का प्रक्षेपण किया था, जिसने चंद्रमा के 3,400 से अधिक चक्कर लगाए और यह 29 अगस्त, 2009 तक 312 दिन तक काम करता रहा|

5.‘बाहुबली’ कहा जाने वाला जीएसएलवी मार्क रॉकेट अब ‘चंद्रयान-2′ को चंद्रमा पर ले जाने के लिए तैयार है| यह अपने साथ एक ऑर्बिटर, एक लैंडर और एक रोवर ले जाएगा और चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा|

6.इस मिशन के प्रक्षेपण की पूर्व संध्या पर इसरो के अध्यक्ष के. सिवन ने बताया कि सभी तैयारियां हो गई हैं, और गड़बड़ी को ठीक कर लिया गया है|

7. इसरो के अध्यक्ष के. सिवन चेन्नई हवाई अड्डे पर मीडिया से कहा, 15 जुलाई को सामने आई तकनीकी खामी को दूर कर लिया गया है प्रक्षेपण से पहले इसका अभ्यास सफलतापूर्वक ढंग से पूरा किया गया है|

8.इसरो प्रमुख ने कहा, कि वैज्ञानिक चांद के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में चन्द्रयान-2 के लैंडर को उतारेंगे जहां अब तक कोई देश नहीं गया है|

ये भी पढ़े: मोदी सरकार के इस नए नियम से फर्जी ‘ड्राइविंग लाइसेंस’ और ‘दलाली’ पर लगेगी रोक

Advertisement