सहारनपुर लोकसभा सीट पर फिर खिलेगा कमल या कांग्रेस दिखाएगी दम या SP-BSP मारेगी बाजी – क्या है चुनावी समीकरण

सभी राजनैतिक दल केंद्र में अपनी सरकार बनाना चाहते है|  इसके लिए वह सुनियोजित ढंग से मतदाताओं को अपनी और आकर्षित करनें का पूरा प्रयास कर रहे है| उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक कुल 80 सीटे है|

केंद्र में सरकार बनानें के लिए यूपी में अधिक से अधिक सीट पर जीत दर्ज करनी होगी, इसलिए प्रत्येक राजनैतिक दल अपनी पूरी शक्ति इनकों जीतने में लगा रहा है, जिसके लिए सभी पार्टी के नेता अपनी अधिक से अधिक रैली उत्तर प्रदेश में कर रहे है| उत्तर प्रदेश में सहारनपुर लोकसभा सीट एक प्रमुख सीट है, जिस पर 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के सांसद राघव लखनपाल नें जीत दर्ज की थी|

ये भी पढ़े: सहारनपुर लोकसभा सीट जातीय समीकरण क्या कहता है, किस पार्टी के लिए है फायदेमंद

सहारनपुर लोकसभा सीट राजनीतिक समीकरण और जातीय समीकरण के हिसाब से बहुत ही महत्वपूर्ण है| लोकसभा चुनाव में सपा, बसपा और रालोद ने गठबंधन किया हुआ है, इस बार यह देखना दिलचस्प होगा, कि भाजपा इस सीट को किस प्रकार से अपने पाले में रख पाती है | इस सीट के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भी रैली की है|

सहारनपुर में मतदाता और जातिगत समीकरण

उत्तर प्रदेश के पश्चिम में स्थित सहारनपुर एक बड़ी लोकसभा सीट है| यहाँ पर कुल मतदाताओं की संख्या 16,08,833 हैं| इसमें पुरुष 8,73,318 और महिला 7,35,515 मतदाता है| वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में यहाँ पर 74.2 प्रतिशत मतदान हुआ था| यहाँ पर 6267 लोगों ने NOTA का इस्तेमाल किया था|  यहाँ पर 56.74 प्रतिशत हिंदू और 41.95 प्रतिशत मुस्लिम है|

सहारनपुर में कुल 5 विधानसभा सीटें बेहट, सहारनपुर नगर, सहारनपुर, देवबंद और रामपुरमनिहारन है| इनमे से दो सीट भारतीय जनता पार्टी, दो कांग्रेस और एक समाजवादी पार्टी के खाते में है|

अब सहारनपुर सीट पर कौन दल जीत दर्ज करता है, यह जनता जनार्दन तय करेगी, इसकी सही जानकारी हमें 23 मई 2019 को प्राप्त होगी, तब तक हमे इसके लिए प्रतीक्षा करनी होगी|

ये भी पढ़े: सहारनपुर लोकसभा सीट का अब तक का क्या रहा है इतिहास, कौन कब किस पर रहा है भारी