गणेशोत्सव / गणेशजी को तुलसी क्यों नहीं चढ़ाना चाहिए – यहाँ पढ़े इसका कारण

सोमवार 2 सितंबर को अधिकतर स्थानों पर गणेश जी की स्थापना की गई हैं, और लगभग सभी जगह गणेश चतुर्थी को काफी धूमधाम मनाया गया है| वहीं क्या आपको मालूम है कि, गणेशजी को तुलसी क्यों नहीं चढ़ाना चाहिए| यदि आपको इसके बारे में जानकारी नहीं है, तो यहाँ पढ़े इसका क्या कारण है?

इसे भी पढ़े: गणेश उत्सव / आज 2 सितंबर को शिव-पार्वती योग में शुरू होगा गणपति महोत्सव – जाने कैसे करें पूजन

एक बार तुलसी माता ने गणेशजी से विवाह करने की प्रार्थना की थी, लेकिन गणेशजी ने तुलसी से विवाह करने से इंकार कर दिया था। इस बात से तुलसी क्रोधित हो गई थीं। तब उसने गणेशजी को दो विवाह होने का शाप दे दिया था। इसके बाद इस पर गणेशजी ने भी तुलसी को शाप दे दिया कि, तुम्हारा विवाह एक असुर से होगा।

एक राक्षस से विवाह होने का शाप सुनकर तुलसी ने गणेशजी से माफी मांगी। तब गणेश ने कहा, कि तुम्हारा विवाह शंखचूर्ण से होगा, लेकिन तुम भगवान विष्णु को प्रिय होने के साथ ही कलियुग में मोक्ष देने वाली होगी, लेकिन मेरी पूजा में तुलसी चढ़ाना शुभ नहीं माना जाएगा। इसी  कारण से गणेशजी की पूजा में तुलसी कभी भी नहीं चढ़ानी चाहिए|

इसे भी पढ़े: ऋषि पंचमी आज, जानिए व्रत कथा, पूजन विधि और इस पर्व का महत्व