UP (उ. प्र. लोक सेवा आयोग) PSC Pre & Mains Updated Syllabus in Hindi

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (UPPSC) एक आधिकारिक संस्था है, जो विभिन्न प्रशासनिक पदों पर भर्ती हेतु परीक्षाओं का आयोजन करता है। इस आयोग की स्थापना भारत सरकार अधिनियम, 1935 के द्वारा की गई थी। वर्ष 1937 से यह आयोग प्रभावी रूप से राज्य को अपनी सेवाऐं दे रहा है।  उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा परीक्षा का आयोजन प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा तथा साक्षात्कार इन तीन चरणों में किया जाता है|

1.प्रारम्भिक परीक्षा सिलेबस  (Preliminary Exam Syllabus)

उत्तर प्रदेश सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा में दो पेपर देने होते है, जिसमें सामान्य अध्ययन पेपर  प्रथम और सामान्य अध्ययन पेपर द्वितीय के दो अनिवार्य पेपर होते हैं|  प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए दो घंटे का समय निर्धारित होता है| प्रत्येक  पेपर 200  अंको का होता है | प्रीलिम्स केवल एक छंटनी परीक्षा है| इस परीक्षा में प्राप्त अंक पूरी परीक्षा के ओवर आल अंकों में नहीं जोड़े जाते हैं|

प्रश्नपत्र प्रश्नों की संख्या कुल अंक समय
सामान्य अध्ययन प्रथम प्रश्न पत्र 150 200 2 घंटा 
सामान्य अध्ययन द्वितीय प्रश्न पत्र 100 200 2 घंटा 

ये भी पढ़े: पेट्रोल पंप पर काम करने वाले पिता के इस लाल ने अपने पहले प्रयास में ही क्रैक की सिविल सेवा परीक्षा

सामान्य अध्ययन प्रथम प्रश्न पत्र पाठ्यक्रम (First Paper Syllabus)

इस प्रश्न पत्र में राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व की सामयिक घटनाएँ, भारत का इतिहास एवं भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन, भारत एवं विश्व का भूगोल, भारतीय राजनीति एवं शासन, आर्थिक एवं सामाजिक विकास, पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी, सामान्य विज्ञान आदि से सम्बंधित प्रश्न वैकल्पिक प्रश्न पूछे जायेगे |

सामान्य अध्ययन द्वितीय प्रश्न पत्र (Second Paper Syllabus)

1.बोधगम्यता (Comprehension Skills)

2.पारस्परिक कौशल व संचार कौशल (Interpersonal skills including communication skills)

3.तार्किक शक्ति और विश्लेषणात्मक क्षमता (Logical reasoning and analytical ability)

4.निर्णय लेने और समस्या को सुलझाने की क्षमता (Decision making and problem solving)

5.सामान्य मानसिक योग्यता (General Mental Ability)

6.प्रारंभिक गणित के अंकगणित , बीजगणित, ज्यामिति और सांख्यिकी (कक्षा 10 लेवल)

7.सामान्य अंग्रेजी (कक्षा 10 लेवल)

8.सामान्य हिंदी (कक्षा 10 लेवल)

मुख्य परीक्षा (Mains Exam)

इस परीक्षा में 6 प्रश्नपत्र होते है,प्रत्येक पेपर के लिये तीन घंटों का समय निर्धारित होता है |

प्रश्नपत्र अंक समय
सामान्य अध्ययन पेपर 1  200 2 घंटा 
सामान्य अध्ययन पेपर 2  200 2 घंटा 
सामान्य अध्ययन पेपर 3  200 2 घंटा 
सामान्य अध्ययन पेपर 4  200 2 घंटा 
सामान्य हिंदी  150 3 घंटा 
निबंध  150 3 घंटा 

ये भी पढ़े:टॉपर सृष्टि बोलीं, सिविल सेवा में आने का बचपन का सपना हुआ सच

सामान्य अध्ययन प्रथम प्रश्न पत्र पाठ्यक्रम (First Paper Syllabus)

1.भारतीय संस्कृति के इतिहास में प्राचीन काल से आधुनिक काल तक के कला के प्रारूप, साहित्य एवं वास्तुकला के महत्त्वपूर्ण पहलू

2.आधुनिक भारतीय इतिहास (1757 ई – 1947 ई तक) – महत्त्वपूर्ण घटनाएँ, व्यक्तित्व एवं समस्याएँ इत्यादि

3.स्वतंत्रता संग्राम – इसके विभिन्न चरण और देश के विभिन्न भागों से इसमें अपना योगदान देने वाले महत्त्वपूर्ण व्यक्ति/उनका योगदान

4.स्वतंत्रता के बाद देश के भीतर एकीकरण और पुनर्गठन (1965 ई. तक)

5.विश्व के इतिहास में 18वीं सदी से 20वीं सदी के मध्य तक की घटनाएँ जैसे फ़्रांसिसी क्रांति 1789, औद्योगिक क्रान्ति, विश्व युद्ध, राष्ट्रीय सीमाओं का पुनः सीमांकन, उपनिवेशवाद की समाप्ति, राजनीतिक दर्शन शास्त्र जैसे साम्यवाद, पूँजीवाद, समाजवाद, नाजीवाद, फ़ासीवाद इत्यादि के रूप और समाज पर उनके प्रभाव इत्यादि शामिल होंगे

6.भारतीय समाज और संस्कृति की मुख्य विशेषताएँ

7.विश्व के प्रमुख प्राकृतिक संसाधनों का वितरण – जल, मिट्टियाँ एवं वन, दक्षिण एवं दक्षिण पूर्व एशिया में (भारत के विशेष संदर्भ में)

8.भौतिक भूगोल की प्रमुख विशिष्टताएँ – भूकंप, सुनामी, ज्वालामुखी क्रियाएँ, चक्रवात, समुद्री जल धाराएँ, पवन एवं हिम सरिताएँ.

9.भारत के सामुद्रिक संसाधन एवं उनकी संभाव्यता

10.यदि आप प्रथम प्रश्नपत्र के मूल्याङ्कन के आधार पर उस वर्ष के कट-ऑफ मार्क्स को क्रॉस कर जाते हैं, तो उत्तर प्रदेश सिविल सर्विसेज मेंस परीक्षा में शामिल हो सकते है

सामान्य अध्ययन पेपर 2 सिलेबस (Second Paper Ayllabus)

1.संघ एवं राज्यों के कार्य तथा उत्तरदायित्व, संघीय ढाँचे से सम्बंधित विश्व एवं चुनौतियाँ, स्थानीय स्तर पर शक्तियों और वित्त का हस्तांतरण और उसकी चुनौतियाँ

2.केंद्र – राज्य वित्तीय संबंधों में वित्त आयोग की भूमिका

3.शक्तियों का पृथक्करण, विवाद निवारण तंत्र तथा संस्थाएँ. वैकल्पिक विवाद निवारण तंत्रों का उदय एवं उनका प्रयोग.

4.भारतीय संवैधानिक योजना की अन्य प्रमुख लोकतान्त्रिक देशों से तुलना

5.संसद एवं राज्य विधायिका – संरचना, संगठन और कार्य-सञ्चालन, शक्तियों एवं विशेषाधिकार तथा सम्बंधित विषय

6.जन प्रतिनिधित्व अधिनियम की मुख्य विशेषताएँ

7.विभिन्न संवैधानिक पदों पर नियुक्ति, शक्तियों, कार्य तथा उनके उत्तरदायित्व

8.सांविधिक, विनिमयामक और विभिन्न अर्ध-न्यायिक निकाय, नीति आयोग समेत – उनकी विशेषताएँ एवं कार्यभाग

9.लोकतंत्र में उभरती हुई प्रवृत्तियों के संदर्भ में सिविल सेवाओं की भूमिका

10.भारत एवं अपने पड़ोसी देशों से उसके सम्बन्ध

11.उ.प्र. के राजनैतिक, प्रशासनिक, राजस्व एवं न्यायिक व्यवस्थाओं की विशिष्ट जानकारी

12.क्षेत्रीय, प्रांतीय, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व के समसामयिक घटनाक्रम

ये भी पढ़े:यूएई सरकार ने दिया भारतीय डिग्री को समान दर्जा

सामान्य अध्ययन पेपर 3 सिलेबस (Third Paper Ayllabus)

1.भारत में आर्थिक नियोजन, उद्देश्य एवं उपलब्धियाँ, नीति आयोग की भूमिका

2.गरीबी के मुद्दे, बेरोजगारी, सामाजिक न्याय एवं समावेशी संवृद्धि

3.सरकार के बजट के अवयव तथा वित्तीय प्रणाली

4.भारत में स्वतंत्रता के बाद भूमि सुधार

5.भारत में वैश्वीकरण तथा उदारीकरण के प्रभाव, औद्योगिकी नीति में परिवर्तन तथा इनके औद्योगिक संवृद्धि पर प्रभाव.

6.आधारभूत संरचना: ऊर्जा, बंदरगाह, सड़क, विमानपत्तन तथा रेलवे आदि

7.भारत की आन्तरिक सुरक्षा चुनौतियाँ : आतंकवाद, भ्रष्टाचार, प्रतिविद्रोह तथा संगठित अपराध.

8.सुरक्षा बलों की भूमिका, प्रकार तथा शासनाधिकार, भारत का उच्च रक्षा संगठन

9.उत्तर प्रदेश के आर्थिक परिदृश्य का विशिष्ट ज्ञान : उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था का सामान्य विवरण, राज्य के बजट. कृषि, उद्योग, आधारभूत संरचना एवं भौतिक संसाधनों का महत्त्व. मानव संसाधन एवं कौशल विकास, सरकार के कार्यक्रम एवं कल्याणकारी योजनाएँ

10.कृषि, बागवानी, वानिकी एवं पशुपालन के मुद्दे.

11.उत्तर प्रदेश के विशेष सन्दर्भ में कानून एवं व्यवस्था और नागरिक सुरक्षा

सामान्य अध्ययन पेपर 4 सिलेबस (Fourth Paper Syllabus)

नीतिशास्त्र तथा मानवीय अन्त,अभिवृत्ति,अवधाराणाएँ तथा आयाम, प्रशासन और शासन व्यवस्था में उनकी उपयोगिता और प्रयोग,लोक प्रशासनों में लोक/सिविल सेवा मूल्य तथा नीतिशास्त्र, लोक सेवा की अवधारणा, शासन व्यवस्था और ईमानदारी का दार्शनिक आधार, सरकार में सूचना का आदान-प्रदान और पारदर्शिता, सूचना का अधिकार, नीतिपरक आचार संहिता, आचरण संहिता, नागरिक घोषणा पत्र, कार्य संस्कृति, सेवा प्रदान करने की गुणवत्ता, लोक-निधि का उपयोग, भ्रष्टाचार की चुनौतियाँ|

सामान्य हिंदी सिलेबस (General Hindi Syllabus)

1.दिए हुए गद्य खंड का अवबोध (Comprehension) और प्रश्नोत्तर

2.संक्षेपण (Precise Writing)

3. सरकारी एवं अर्धसरकारी पत्र लेखन, तार लेखन, कार्यालय आदेश, अधिसूचना, परिपत्र

4. शब्द ज्ञान एवं प्रयोग — i) उपसर्ग एवं प्रत्यय प्रयोग ii) विलोम शब्द iii) वाक्यांश के लिए एकशब्द iv) वर्तनी एवं वाक्य शुद्धि  v) लोकोक्ति एवं मुहावरे

निबंध (Essay)

निबंध के प्रश्नपत्र में तीन सेक्शन रहेंगे| अभ्यर्थी को प्रत्येक सेक्शन से एक टॉपिक का चयन करना है उन्हें हर टॉपिक पर निबंध 700 शब्दों में लिखना है| प्रत्येक खंड 50 – 50 अंकों का होगा, तीनों सेक्शन में टॉपिक इन क्षेत्रो से सम्बंधित रहेंगे—

Section A : (1) साहित्य और संस्कृति (2) सामाजिक क्षेत्र (3) राजनीतिक क्षेत्र

Section B: (1) विज्ञान, पर्यावरण और प्रौद्योगिकी (2) आर्थिक क्षेत्र (3) कृषि, उद्द्योग और व्यापार.

Section C: (1) राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय घटना (2) प्राकृतिक आपदा– लैंड स्लाइड, भूकंप, बाढ़ , सूखा आदि (3) राष्ट्रीय विकास कार्यक्रम और परियोजनाएँ

साक्षात्कार (INTERVIEW)

साक्षात्कार 100 अंकों का होता है, साक्षात्कार को हम अपनी चुनी हुई भाषा (हिंदी या अंग्रेजी) में दे सकते है| इसमें आपकी रूचि, शैक्षणिक बैकग्राउंड के विषय में पूछा जाता है, तथा प्रायः सामान्य जागरूकता, बुद्धि, वाक्पटुता, चरित्र, अभिव्यक्ति शक्ति / व्यक्तित्व की जाँच की जाती है| इसके अंक फ़ाइनल मेरिट में जोड़े जाते है |

ये भी पढ़े: UP BEd JEE 2019: चुनावों के कारण एंट्रेंस परीक्षा की बदली तारीख