आर्टिकल 370: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने पीएम मोदी के बाद इमरान से की बातचीत, जानिए क्या कहा

आर्टिकल 370: जब से मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म कर दिया हैं | तभी से भारत और पाकिस्तान के बीच जबरदस्त तनाव चल रहा है | वहीं जारी इस तनाव के बीच ही सोमवार 19 अगस्त को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दोनों देशों के प्रधानमंत्री से टेलीफोन पर बातचीत की है। बता दें कि, इस बात की जानकारी खुद ट्रंप ने ट्वीट करके दी है। ट्रंप ने इसकी जानकारी देते हुए ट्वीट किया, ‘ मेरे दो अच्छे दोस्त भारत के पीएम मोदी और पाकिस्तान के पीएम इमरान खान से बातचीत हुई।

इस दौरान व्यापार, रणनीतिक साझेदारी और सबसे महत्वपूर्ण बात दोनों से कश्मीर में तनाव कम करने की दिशा में काम करने को लेकर बातचीत हुई। यह एक कठिन स्थिति है, लेकिन अच्छी बातचीत हुई।’

इसे भी पढ़े: आर्टिकल 370 : दिग्विजय ने कहा, नेहरू के चरणों की धूल भी नहीं है शिवराज

व्हाइट हाउस ने भी किया ट्वीट     

व्हाइट हाउस ने राष्ट्रपति ट्रंप और पीएम मोदी के साथ बातचीत की जानकारी दी और  कहा कि, राष्ट्रपति डोनाल्ड जे. ट्रंप ने भारत के पीएम नरेंद्र मोदी के साथ क्षेत्रीय विकास और  अमेरिका-भारत रणनीतिक साझेदारी पर चर्चा की। इसी के साथ राष्ट्रपति ने भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव कम करने और क्षेत्र में शांति बनाए रखने के महत्व को बताया। इसके बाद दोनों नेताओं ने आगे चर्चा करते हुए कहा कि कैसे वे व्यापार के माध्यम से संयुक्त राज्य-भारत के आर्थिक संबंधों को मजबूत करना जारी रखेंगे और वे जल्द ही दोनों के बीच बैठक होगी।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने दी जानकारी 

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने इस बातचीत की जानकारी देते हुए कहा कि, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान के पीएम इमरान खान से बात की। हम उम्मीद करते हैं कि राष्ट्रपति ट्रंप और अमेरिका कश्मीर संकट को हल करने में अपनी भूमिका निभाएंगे। कुरैशी ने ट्रंप के साथ इमरान से बातचीत का ब्योरा साझा किया।”

पीएम मोदी से की बातचीत

ट्रंप ने इमरान को फोन करने से पहले पीएम मोदी से बातचीत की और जिसके  दौरान मोदी जी ने  पाकिस्तान नाम लिए बगैर पाकिस्तान को जमकर खरी-खोटी सुनाई। वहीं मिली जानकारी के मुताबिक,   दोनों के बीच 30 मिनट बातचीत जारी रही थी| इस दौरान उन्होंने कहा कि, पाकिस्तान की तरफ से बेवजह भड़काऊ बयानबाजी की जा रही है जो क्षेत्रीय शांति के लिए सही नहीं है। इस दौरान सीमा पर आतंक को लेकर भी बातचीत हुई।”

इसे भी पढ़े: आर्टिकल 370: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्ष ने पाकिस्तान की चिट्ठी पर टिप्पणी करने से किया इनकार