साइनस की तकलीफ से चाहते है छुटकारा, अपनाएं ये योगासन

प्रदूषण की बढ़ती समस्या के कारण लोगो को अनेक प्रकार की बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है| इन्ही बिमारियों में साइनस भी एक है| यह ऐसी बीमारी है, जो किसी भी उम्र में किसी को भी हो सकती है| हमारी नाक के आसपास चेहरे की हड्डियों के भीतर नम हवा के खाली स्थान बने हुए होते है, जिन्हें ‘वायुविवर’ या साइनस कहा जाता हैं। सामान्य स्थिति में साइनस हमारी सांस को फेफड़ों तक पहुंचने से पहले उसे नम (आर्द्र) कर देती है, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि, नाक में समस्या हो जाने पर हमारे साइनस के बारीक छिद्रों में काफी दिक्क्त हो जाती है| 

इसे भी पढ़े: प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ाने के लिए इन चीजों को डाइट में करें शामिल

हमारे जुकाम और एलर्जी हो जाने पर सबसे पहले हमारी नाक के आसपास मौजूद रहने वाले  साइनस में सूजन आ जाती है, क्योंकि जुकाम हो जाने पर इसमें बलगम बनने लगता है| जिसके बाद हमारे सर में हल्का दर्द होने लगता है| वहीं सर्दी जुकाम हो जाने के साथ-साथ  इनमें इन्फेक्शन की वजह से भी साइनासाइटिस होने की अधिक संभावना रहती है| यदि आपको भी साइनस की तकलीफ है, और आप इससे छुटकारा पाना चाहते है, तो आप ये योगासन अपनाकर इस बीमारी से छुटकारा पा सकते है|

 अनुलोम-विलोम योगासन अपनाएँ

1.आप इस योगासन की शुरुवात करने के लिए सबसे पहले अपने दाएं हाथ की पहली दो ऊंगलियों को मोड़ लें|

2.इसके बाद अंगूठे से नाक के दाएं नथुने को बहुत ही आराम से दबाएं और चार तक गिनती करते हुए बाएं नथुने से एक लम्बी सी साँस लें|

3.फिर दाएं हाथ की अंतिम दो ऊंगलियों से अपने बाएं नथुने को बंद करके रखें और सांस को 16 गिनने तक पूरी तरह से थाम कर रखें|

4.इसके बाद दांये नथुने पर से अंगूठा हटाकर 8 की गिनती गिनने तक अपनी धीरे-धीरे सांस को छोड़ें। फिर चार तक गिनती  गिनते हुए दाएं नथुने से सांस को ऊपर की तरफ खींचे।

5.आप इस प्रक्रिया को हर नथुने के साथ लगभग 10-12 बार करिये|

 सर्वांगानासन

1.इसे करने के लिए आप सबसे पहले पीठ के बल लेटकर पैरों को 90 डिग्री के कोण पर लेकर आये|

2.इसके बाद थोड़ा आगे-पीछे होकर कुछ गति के साथ अपने कूल्हों व पीठ को चटाई से जितना हो सके ऊपर उठा लें। फिर अपने हाथों से हल्का सा कमर को सहारा देते हुए बोझ कंधों और कोहनियों पर ले लें।

3.इसके बाद आप अपनी ठुड्डी को अपने सीने पर लेकर आये और फिर सामान्य तौर पर सांस लें|

4.आप इस स्थिति में एक मिनट तक ऐसे ही रुके रहिये|

5.इसके बाद आप नॉर्मल स्थिति में आने के लिए अपने हाथों को हल्का सा ढीला  करते हुए पीठ को चटाई पर लाइए और फिर पैरों को भी नीचे कर लीजिये|

बैठकर आगे की तरफ झुकना

1.आप इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले एक चटाई डालकर बैठ जाइये|

 2.इसके बाद अपने दोनों पैरों को अपने आगे लंबा कर लें।

3.अब अपने दोनों हाथो को पैरों की तरफ ले जाइये, ताकि आपका पैर आपकी जांघ में छू जाए|

4.आप अपनी यह स्थिति एक मिनट तक बनाकर रखें| 

 5.इसके बाद नॉर्मल मुद्रा में आने के बाद एक या दो बार फिर से करें|  

इसे भी पढ़े: टाईफाइड क्या है, यह कैसे होता है – जानिए इसके लक्षण और बचनें के उपाय