फिंगरप्रिंटिंग क्या है | कैसे करती है काम जानिए इसके बारे में सब कुछ यहाँ

    0
    61

    आज तकनीक के दौर में डिजिटल प्राइवेसी की गारंटी नहीं है, क्‍योंकि वर्तमान में एडवरटाइजमेंट टेक इंडस्ट्री हमारी डिजिटल गतिविधियों पर नजर रखने के रास्ते खोजने में पूर्ण रूप से सक्षम है।  इस कार्य को एक्‍सपर्ट फिंगरप्रिंटिंग के माध्यम से करते हैं। एक्‍सपर्ट इसको नेक्‍सट जनरेशन की टेक्‍नॉलिजी कहते हैं। इस टेक्नोलॉजी के माध्यम से आपके फिंगरप्रिंट से आपके मोबाइल या कंप्यूटर के स्क्रीन रिजोल्यूशन, आपरेटिंग सिस्टम और मॉडल की जानकारी एकत्र करते हैं। डिवाइस की जानकारी होने के बाद आपके डाटा का एक प्रोफाइल तैयार किया जाता है। यह तकनीक ठीक उसी तरह से काम करती है, जैसे फिंगरप्रिंट के माध्यम से किसी व्यक्ति की पहचान की जाती है।

    Advertisement

    यह भी पढ़े: अगर आप फ्री वाई-फाई का उपयोग करते है तो जान ले ये बात | Use Public Wi-Fi Safely on Phones

    फिंगरप्रिंटिंग कैसे काम करती है?

    जब हम वेब ब्राउज करते हैं, तब ब्राउजर वेबसाइट्स को आपके हार्डवेयर से सम्बंधित जानकारी देता है, और जब हम कोई मोबाइल एप इंस्टाल करते हैं, तो ऑपरेटिंग सिस्टम एप के साथ हार्डवेयर की जानकारी शेयर करता है। ऐसा इसलिए होता है, जिससे एप इंस्‍टॉल करने से पहले यह पता लग सके कि आपके डिवाइस में इसके लिए जरूरी जगह उपलब्‍ध है या नहीं। दूसरा कारण यह भी है, कि इसके माध्यम से एप को मालूम होता है, कि आप किस तरह के फोन का उपयोग कर रहे हैं। यह इसलिए भी जरूरी है, ताकि प्रोसेसर की गति और स्क्रीन के आकार को इसके मुताबिक कर सके।

    वर्ष 2017 में लेहीघ यूनिवर्सिटी और वाशिंगटन यूनिवर्सिटी में एक स्टडी में फिंगरप्रिंटिंग की विधि से 99% यूजर्स की पहचान कर ली गई। प्राइवेसी समर्थकों का कहना है, फिंगरप्रिंटिंग का दुरुपयोग होता है, क्योंकि कुकीज को पहचानकर लोग उसे डिलीट कर सकते हैं, लेकिन इससे फिंगरप्रिंटिंग की जानकारी नही हो पाती है।

    फिंगरप्रिंटिंग बचाव के उपाय

    1.एपल ने आईफोन और मैकयूजर के लिए पिछले वर्ष अपने सफारी ब्राउजर में फिंगरप्रिंटिंग बचाव मैकेनिज्म शुरू किया है। यह  दोनों वेबसाइट को न्यूनतम जानकारी देते हैं। इसी प्रकार मोजिला ने भी अपने फायरफॉक्स ब्राउजर में ब्लॉक मैकेनिज्म शुरू किया है।

    2.गूगल ने क्रोम ब्राउजर के लिए फिगरप्रिंट बचाव पेश करने की घोषणा की है।

    3.फ्री एप्‍स में ट्रैकिंग की संभावना सबसे अधिक होती है, इसलिए आपके लिए यही बेहतर होगा कि उन्हें अपने मोबाइल या कंप्यूटर से डिलीट कर दे ।

    ये भी पढ़े: Flipakart पर जारी हुआ Xiaomi Redmi K20 का Teaser | 17 जुलाई से शुरू होगी सेल

    Advertisement