फर्रुखाबाद लोकसभा सीट का इतिहास क्या है, इस बार किस पार्टी को मिलेगी जीत – जाने जनता की राय

Farrukhabad Lok Sabha Election Date- 29 April 2019

फर्रुखाबाद लोकसभा सीट उत्तर प्रदेश की महत्वपूर्ण सीटों में से एक है| फर्रुखाबाद में आलू उत्पादन टॉप पर है इसलिए फर्रुखाबाद को पोटैटो सिटी (आलू का शहर) के नाम से जाना जाता है| कानपुर मंडल के अंतर्गत फर्रुखाबाद जिला है| मनमोहन सरकार में सलमान खुर्शीद इसी सीट से चुनकर संसद पहुंचे थे| इस सीट पर समाजवादी नेता राममनोहर लोहिया भी जीत दर्ज कर चुके है|

ये भी पढ़ें: सीतापुर लोकसभा सीट का इतिहास क्या है, इस निर्वाचन क्षेत्र पर कैसा है चुनावी माहौल

देश आजाद होने के बाद फर्रुखाबाद लोकसभा सीट पर 15 बार लोकसभा सभा चुनाव हो चुका है|  कांग्रेस ने इसमें से 7 बार जीत दर्ज की, तीन बार बीजेपी, दो बार सपा, दो बार जनता पार्टी और एक-एक बार जनता दल और संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी को जीत मिली है|

फर्रुखाबाद लोकसभा सीट पर पहली बार चुनाव 1957 में हुए थे| इस पर कांग्रेस के मूलचंद दूबे चुनाव जीते थे| 1962 में मूलचंद दोबारा चुनाव जीतने में कामयाब रहे| 1962 में मूलचंद को हार का सामना करना पड़ा संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के राममनोहर लोहिया ने इस सीट पर जीत दर्ज की|

1967 में कांग्रेस ने इस सीट पर वापसी कर ली

1971 में यह सीट कांग्रेस के पास थी

1977 में भारतीय लोकदल के दयाराम शाक्य ने इस सीट पर दर्ज की

1984 में कांग्रेस ने खुर्शीद आलम खान के सहारे वापसी की

1989 में भारतीय जनता दल ने इस सीट पर कब्ज़ा कर लिया

1996 और 1998 में बीजेपी से स्वामी सच्चिदानद हरी साक्षी महाराज सांसद चुने गए

1999 और 2004 में समाजवादी पार्टी से चंद्रभूषण सिंह ने जीत हासिल की

2009 के चुनाव में कांग्रेस से सलमान खुर्शीद एक बार फिर जीतने में कामयाब रहे

2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी से मुकेश राजपूत ने वापसी की

कुल मतदाता

फर्रुखाबाद लोकसभा सीट पर 2011 की जनगणना के अनुसार कुल जनसंख्या 2370591 है, जिसमे से 1676677 मतदाता है| यहाँ पर चुनाव 29 अप्रैल 2019 को आयोजित किये जायेंगे|

फर्रुखाबाद लोकसभा सीट पर जनता की राय

फर्रुखाबाद लोकसभा सीट पर भाजपा ने मुकेश राजपूत को मैदान में उतारा है गठबंधन में यह सीट बीएसपी के पास है | बीएसपी ने मनोज अग्रवाल पर दावं चला है | कांग्रेस ने सलमान खुर्शीद पर भरोसा किया है | लोकसभा चुनाव 2019 में त्रिकोणीय मुकाबले की बात की जा रही है | लेकिन फिर भी यहाँ पर भाजपा और कांग्रेस के बीच जबरदस्त टक्कर देखने को मिल सकती है |

ये भी पढ़ें: रायबरेली लोकसभा चुनाव परिणाम अब तक क्या रहे, कितने है इस सीट पर मतदाता