केंद्र ने राज्यों से कहा, कड़ाई से लागू करें लॉकडाउन साथ ही उल्लंघन पर करें कार्रवाई

केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों से कहा है कि नॉवेल कोरोना वायरस के प्रकोप पर काबू पाने के लिए लॉकडाउन का पालन सख्ती से सुनिश्चित करें और इसका विरोध करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी । सोमवार को यह जानकारी एक आधिकारिक बयान में दी गई । केंद्र सरकारों और राज्य सरकारों ने रविवार को पूरे देश के ऐसे 75 जनपदों को 31 मार्च तक पूर्ण रूप से बंद करने का घोषणा किया था जहां नॉवेल कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज सामने आए हैं । खतरनाक कोविड-19 के प्रकोप को रोकने के लिए यह सहमति बनी थी कि बिना आवश्यक यात्री परिवहन को तुरंत रोकने की आवश्यकता है ।

लॉकडाउन क्या होता है, आखिर क्यों किया जाता है – जाने सब कुछ यहाँ

23 मार्च सुबह छह बजे से 31 मार्च की मध्यरात्रि तक दिल्ली बंदी रहेगी । कुछ और राज्यों ने भी लॉकडाउन को पारित किया है । लॉकडाउन के समय दिल्ली की सीमाएं बंद रहेंगी, हालांकि स्वास्थ्य, खाद्य सामग्री, पानी और बिजली आपूर्ति जैसी जरुरी  सुविधाएँ चालू रहेंगी । लॉकडाउन के समय जरुरी सुविधाओं से जुड़े लोगों की आवाजाही सुनिश्चित करने के लिये डीटीसी की 25 प्रतिशत बसें भी सड़कों पर मिलेगीं ।

उत्तर प्रदेश के किन जिलों में रहेगा 25 तक लॉकडाउन पढ़े क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद

आज पूरे विश्व में  कोरोना वायरस के चलते काफी एहतियात बरते जा रहे है इसी के क्रम में आज से पूरे देश में कई जिलों को लॉकडाउन करने की घोषणा की गई है | कोरोना वायरस से निपटने और संक्रमण फैलने से रोकने के लिए हमारी केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को कई जिलों को लॉकडाउन करने को कहा है ये वही जिले हैं जिनमें कोरोना से संक्रमण के पॉजिटिव मामले सामने आए हैं |

2 अप्रैल तक यूपी में हुए सभी स्कूल, कॉलेज और मल्टीप्लेक्स बंद

आपको बताते चलें कि हमारे देश में भी कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण की वजह से आपातकालीन स्थिति के ध्यान में रखते हुए भारत के कई शहरों को लॉक डाउन किया गया है जिनकी संख्या की बात कि जाये तो वो 75 है | भारत में कोरोना को लेकर सबसे पहला लॉकडाउन महाराष्ट्र में किया गया है |

जनता कर्फ्यू का संदेश देते हुए इशारो – इशारो में CM योगी क्या बोले – पढ़ें पूरी खबर