शहीद पर आपत्तिजनक टिप्पणी के लिए अब साध्वी प्रज्ञा के माफ़ी मांगने की क्या वजह – जानिए

लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने उत्तर प्रदेश की राजधानी भोपाल से दिग्विजय के खिलाफ साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को मैदान में उतारा हैं | वहीं अब शहीद पर आपत्तिजनक टिप्पणी के लिए माफी मांग ली है | इसलिए जान लीजिये कि साध्वी प्रज्ञा के माफी मांगने की वजह क्या है?

बता दें कि बीजेपी द्वारा उनके बयान से दूरी बनाने के बाद शुक्रवार 19 अप्रैल की शाम को साध्वी प्रज्ञा ने कहा, ‘मैंने महसूस किया कि देश के दुश्मनों को इससे (मुंबई ATS के पूर्व चीफ हेमंत करकरे पर दिए बयान) फायदा हो रहा था, ऐसे में मैं अपने बयान को वापस लेती हूं और इसके लिए माफी मांगती हूं, यह मेरी निजी पीड़ा थी।’ 

इसे भी पढ़े: साध्वी प्रज्ञा का विवादित बयान पर कुमार विश्वास क्या बोले – आप भी जानिए

वहीं अपने पहले के बयान से पलटते हुए साध्वी प्रज्ञा ने कहा, ‘वह (हेमंत करकरे) दुश्मन देश से आए आतंकियों की गोली से मरे। वह निश्चित रूप से शहीद हैं।’ जानकारी देते हुए हुए बता दें कि बीजेपी ने इससे कुछ घंटे पहले ही साध्वी प्रज्ञा के बयान से थोड़ी दूरी बना ली थी। जिससे अब प्रज्ञा ने माफी मांगी हैं | राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी की ओर से जारी बयान में कहा गया कि ‘बीजेपी का स्पष्ट मानना है कि स्वर्गीय हेमंत करकरे आतंकियों से बहादुरी से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए। बीजेपी ने हमेशा ने उन्हें शहीद माना है।’ 

साध्वी प्रजा ने आतंकी हमले में शहीद हुए मुंबई एटीएस के तत्कालीन प्रमुख हेमंत करकरे पर यातना देने का आरोप  लगाया था और कहा था कि, ‘मैंने उनको सर्वनाश होने का श्राप दिया था।’

इसके बाद बीजेपी के बयान में कहा गया कि, ‘जहां तक साध्वी प्रज्ञा के इस संदर्भ में दिए बयान का विषय है तो वह उनका निजी बयान है जो वर्षों तक उन्हें हुई शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना के कारण दिया गया होगा।’ अनुमान लगाया जा रहा है कि बीजेपी के इस बयान के बाद ही साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर पर माफी मांगने का दबाव बढ़ा था | 

इसे भी पढ़े: साध्वी प्रज्ञा के बीजेपी ज्वाइन करने पर बॉलीवुड एक्ट्रेस ने कहा- नफ़्रति संघी साथियों के नीचता तक कभी नहीं पहुँच पाऊँगी!