मिर्जापुर लोकसभा सीट का अब तक का क्या रहा है इतिहास, कुल कितने है यहां पर मतदाता

0
1340

Mirzapur Lok Sabha Election- 2019

Advertisement

मिर्जापुर लोकसभा उत्तर प्रदेश की प्रमुख सीट है| इस सीट पर अब तक 17 बार लोकसभा चुनाव हो चुके हैं| इसमें 5 बार कांग्रेस ने जीत दर्ज की, बीजेपी ने दो बार इस सीट पर जीत दर्ज की| समाजवादी पार्टी 4 बार इस सीट पर जीत दर्ज कर चुकी है| बहुजन समाज पार्टी के खाते में 2 बार यह सीट आई है|  2014 में बीजेपी सहयोगी पार्टी अपना दल को जीत मिली थी| यहाँ से मौजूदा सांसद अनुप्रिया पटेल है| मिर्जापुर लोकसभा सीट से दस्यु सुंदरी फूलन देवी 2 बार लोकसभा पहुंची थी|

नोट: मिर्जापुर लोकसभा चुनाव 19 मई 2019 को निर्वाचन आयोग द्वारा आयोजित कराये जायेंगे|

ये भी पढ़ें: मिर्जापुर लोकसभा का जातीय समीकरण – किस पार्टी पर पड़ेगा भारी, किसके लिए है फायदेमंद

अब तक का चुनावी इतिहास (Election History)

देश आजाद होने के बाद इस सीट पर कांग्रेस का यहां दबदबा हुआ करता था| 1984 के बाद कांग्रेस जीतनें के लगातार प्रयास कर रही है| 1984 में उमाकांत मिश्रा ने कांग्रेस को जीत दर्ज की थी|

1957 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के जॉन एन विल्सन ने जीत हासिल की थी|

1967 के चुनाव में भारतीय जनसंघ को जीत मिली थी|

1991 में भारतीय जनता पार्टी के वीरेंद्र सिंह जीत कर लोकसभा पहुंचे|

1996 और 1999 के लोकसभा चुनाव में सपा की फूलन देवी ने जीत हासिल की थी| 2001 में फूलन देवी की हत्या कर दी गयी थी जिसके बाद इस सीट पर उपचुनाव कराये गए थे| जिस पर सपा के ही टिकट पर रामरती भिंड ने जीत हासिल की थी|

2004 में बसपा के नरेंद्र कुमार कुशवाहा जीते थे|

2009 में भी सपा के बालकुमार पटेल इस सीट पर विजयी रहे|

2014 में अपना दल की प्रमुख अनुप्रिया पटेल ने जीत दर्ज की है जोकि वर्तमान सांसद है|

कुल कितने है मतदाता (Voters)

मिर्जापुर की आबादी करीब 25 लाख है, जनगणना के मुताबिक यह 24,96,970 थी वर्तमान समय में यह इससे अधिक है|

1.सामान्य वर्ग की आबादी 18,15,709 है

2.अनुसूचित जाति की आबादी 6,61,129 है

3.अनुसूचित जनजाति की आबादी 20,132 है

4.हिंदूओं की संख्या –  22 लाख

5.मुस्लिमों की संख्या- 1 लाख 95 हजार

6.ईसाइयों की संख्या- 2300 है

ये भी पढ़ें: चुनाव आयोग ने कहा, कुछ घटनाओं को छोड़ दें तो पहले चरण में मतदान रहा शांतिपूर्ण

ये भी पढ़ें: मुरादाबाद लोकसभा चुनाव 2019 में क्यों है सबकी नजर, क्या रहा है इस सीट का अब तक चुनावी सफर

Advertisement